छात्रा की हत्या के मामले में पुलिस कराएगी आरोपियों की ब्रेन मैपिंग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

Captureलखनऊ। आरएलबी छात्रा की हत्या के मामले में पुलिस ने दो रिक्शा चालकों सदगुरु और दीपू को गिरफ्तार तो कर लिया, लेकिन हत्या की गुत्थी नहीं सुलझी। लिहाजा पुलिस को कोर्ट से इस बात की अनुमति मांगनी पड़ गई कि आरोपितों की ब्रेन मैपिंग करानी होगी। वहीं, पुलिस ने दोनों कैदी माइकल और नासिर को अरेस्ट कर बुधवार को कोर्ट में पेश किया, जहां उन्होंने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।
कोर्ट ने बीते शुक्रवार को पुलिस की अर्जी पर सुनवाई करते हुए सदगुरु और दीपू का नार्को, ब्लड सैंपलिंग व ब्रेन मैपिंग कराने की अनुमति दे दी है। लेकिन, पुलिस के ये तीर अभी निशाने पर लगने में अड़चन है। कारण है कि सदगुरु और दीपू की रिमांड अवधि समाप्त होने वाली है। ऐसे में पुलिस को पहले उनकी रिमांड बढ़ाने के लिए कोर्ट जाना होगा। जिसके बाद वह उनका टेस्ट करा पाएंगे।
23 फरवरी को पुलिस ने स्टूडेंट मर्डर केस में पकड़े गए सदगुरु और दीपू का नार्को टेस्ट, ब्लड सैंपलिंग व ब्रेन मैपिंग कराए जाने के लिए अर्जी दाखिल की थी। लेकिन, कोर्ट उस पर सुनवाई नहीं कर सकी थी। लिहाजा सुनवाई की तारीख को आगे बढ़ा दिया गया था। शुक्रवार को कोर्ट ने आखिरकार पुलिस की अर्जी पर सुनवाई करते हुए सदगुरु और दीपू का नार्को, ब्रेन मैपिंग व ब्लड सैंपलिंग कराए जाने की अनुमति दे दी है। हालांकि पुलिस के सामने अब एक और पेंच फंसेगा। सदगुरु और दीपू की रिमांड अवधि सात दिनों की थी जो समाप्त होने वाली है। ऐसे में पुलिस पहले उनकी रिमांड आगे बढ़ाने के लिए कोर्ट जाएगी। जिसके बाद उनके सारे टेस्ट कराए जाने की नौबत आएगी। यानी पुलिस का इंतजार अभी खत्म नहीं हुआ। साथ ही छात्रा की हत्या के रहस्य पर पर्दा अभी बरकरार है। हालांकि पुलिस इस मामले में हर संभव प्रयास कर रही है।

Pin It