चिकित्सक ड्यूटी पर पैरामेडिकल स्टॉफ नदारद

  • जांच और दवा के लिए भटकते रहे मरीज

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी समेत पूरे प्रदेश में डेंगू की भयावह स्थित को देखते हुए सरकार ने दशहरा एवं मोहर्रम की छुटिï्टयों में अस्पतालों को खोलने के आदेश सिर्फ डॉक्टरों पर लागू होते दिखे, अधिकांश पैरामेडिकल स्टॉफ नदारद रहे। लिहाजा अस्पताल खुलने के बाद भी मरीजों को इलाज के लिए भटकना पड़ा। बुखार पीडि़त मरीजों को जांच के लिए कई चक्कर लगाने पड़े।
शहर के तीन बड़े अस्पतालों डॉ.राम मनोहर लोहिया ,सिविल तथा बलरमपुर अस्पतालों में दो दिन छुट्टïी के दौरान मरीजों की भारी भीड़ रही । जिसमेें चिकित्सकों द्वारा मरीजों को चिक्त्सिकिये परामर्श तो दिया गया, लेकिन उनकी जांच नहीं हो पायी। लोहिया अस्पताल में बुखार से पीडि़त इन्दिरा नगर निवासी सुधा सिंह मंगलवार को इलाज के लिए लोहिया अस्पताल पहुंची थी। जहां चिकित्सक ने उन्हें देखने के बाद जांच कराने के लिए भेज दिया। लेकिन रजिस्ट्रेशन काउंटर पर बैठे हुए व्यक्ति ने रजिस्ट्रेशन होने का समय पूरा हो जाने की बात कह कर वापस लौटा दिया। इसके अलावा दवा काउन्टर पर भी मरीजों को पर्ची देखकर दवा न होने की बात कह कर लौटाया जाता रहा। गोमती नगर निवासी विनय के पैरों का आपरेशन हुआ था। जिसके चलते मंगलवार को ओपीडी में चिकित्सक को दिखाया था। जिसके बाद चिकित्सक ने जो मरहम लिखा था। उस मरहम को 7 नम्बर दवा काउन्अर पर बैठे व्यक्ति ने मरीज को दवा न होने की बात कहकर लौटा दिया, जबकि वहीं दवा उसे काउन्टर नम्बर 8 पर चिकित्सक के कहने के बाद उपलब्ध हो सकी।

महिला अस्पताल में नहीं मिला मेडिकल स्टॉफ

मंगलवार को छुट्टी होने के चलते बाल महिला चिकित्सालयों में मरीजों की संख्या आम दिनों की अपेक्षा कम दिखाई पड़ी। जिसके चलते इन्दिरानगर स्थित बाल महिला चिकित्सालय में समय के पहले ही पैरामेडिकल स्टाफ नदारद हो गये।

Pin It