चिकित्सकों में प्रोन्नति को लेकर असंतोष

कार्यपरिषद की बैठक में हुई डॉक्टरों की प्रोन्नति के फैसले का किया गया विरोध

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में हुई कार्यपरिषद की बैठक में चार विभागों में डॉक्टरों के चयन एवं प्रोन्नति करने पर मुहर लगा दी गयी। वहीं चिकित्सकों ने इस निर्णय के विरोध में आंदोलन करने की चेतावनी दी है।
कार्यपरिषद की बैठक में ट्रामा एण्ड इमरजेंसी मेडिसिन एनेस्थिसिया में डॉ. चेतना शमशेरी, डॉ. दिव्या श्रीवास्तव, डॉ. तन्मय तिवारी, डा. प्रेम राज सिंह को सहायक आचार्य के पद पर नियुक्ति प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया। इसके अलावा इमरजेंसी मेडिसिन में डॉ. मृदु सिंह, डॉ. हरीश गुप्ता को सहायक आचार्य के पद पर नियुक्ति दी गयी। इसके अलावा मेडिसिन विभाग के डॉ. कौशर उस्मान को आचार्य के पद पर प्रोन्नति प्रदान की गयी है। साथ ही डॉ. श्याम चन्द्र चौधरी, डॉ. सतेन्द्र कुमार सोनकर, डॉ. अविनाश अग्रवाल, डॉ. विवेक कुमार को प्रोफेसर जूनियर ग्रेड के पद पर प्रोन्नति प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया। डॉ. डी हिमांशु, डॉ.अभिषेक सिंह, डॉ. एम एम पटेल को सह आचार्य के पद पर प्रोन्नति दी गयी है। इसके अलावा डा. अमित चौधरी को सहायक आचार्य के पद पर नियुक्ति प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया। इस दौरान एनेस्थिसिया विभाग के प्रोन्नति को लेकर काफी चर्चा हुई है। डॉ.सतीश चन्द्र धस्माना को प्रोफेसर के पद पर प्रोन्नति दी गयी। डॉ. अजय कुमार चौधरी को प्रोफेसर जूनियर ग्रेड ( एडिशनल प्रोफेसर) के पद पर प्रोन्नति प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया। डॉ.जिया अरशद को सह आचार्य के पद पर प्रोन्नति प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया। इसके अलावा डा. एहसान सिद्ïदीकी को आचार्य के पद प्रोन्नति दी गयी, लेकिन डॉक्टरों ने इसका विरोध दर्ज किया। डाक्टरों का आरोप है कि डा. सिद्ïदीकी ने 15 सितम्बर 2015 को लेक्चरर के पद पर ज्वाइन किया। चार महीने में ही उसे सह आचार्य के पद पर प्रोन्नति गलत तरीके से दी जा रही है। डा. सिद्ïदीकी के समकक्ष चिकित्सकों को प्रोन्नति नहीं दी गयी तो आंदोलन किया जाएगा। नाराज चिकित्सकों का कहना है कि नियुक्ति पत्र के क्रमांक नम्बर छह में स्पष्ट लिखा है कि अभ्यर्थी के पिछले अनुभव को केजीएमयू में नियुक्ति के बाद जोड़ा नहीं जाएगा। डॉ. सिद्ïदीकी के समकक्ष डॉक्टरों का आरोप है कि अगर उन्हें भी प्रोन्नति नहीं दी गयी तो आंदोलन किया जाएगा। वहीं कुलसचिव का कहना है कि डॉ. एहसान को अनुभव के आधार पर प्रोन्नति दी गयी है।

Pin It