चिकित्सकों ने कंधे से कटे हाथों के लिए बनाया मूविंग हैंड

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। किंगजार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के लिम्ब सेन्टर में आयोजित वर्कशाप के दौरान चिकित्सकों की टीम ने पहली बार कंधे से कटे हाथ के लिए कृत्रिम मूविंग हैंड बनाकर एक निशक्त को नई जिदंगी दी है। इसे बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है।
चिकित्सकों के मुताबिक संडीला निवासी मोहम्मद हुसैन एक दुर्घटना में अपने हाथ गंवा चुके थे। आर्थिक रूप से कमजोर मोहम्मद हुसैन को इलाज के दौरान भारी समस्या का सामना करना पड़ा था। लेकिन लिम्ब सेन्टर में उनको 25 हजार का मूविंग हैंड मुफ्त में लगाया गया है। लिम्ब सेन्टर के डिपार्टमेन्ट ऑफ फिजिकल मेडिसिन एंड रिहेबिलिटेशन विभाग में अब तक केवल कोहनी से कटे हाथों के लिए ही कृत्रिम अंग बनाए जाते थे। वर्कशाप की प्रभारी शगुन सिंह और उनकी टीम ने कंधे से कृत्रिम मूविंग हैण्ड बनाकर बड़ी उपलब्धि हासिल की है। डिपार्टमेन्ट ऑफ फिजिकल मेडिसिन एंड रिहेबिलिटेशन विभाग के हेड डॉ. अनिल गुप्ता ने बताया है कि कंधे से अलग हाथों के लिए मूविंग हैंड बनाना बहुत ही मुश्किल होता है। डॉक्टरों ने कंधे के पास वायर को इस तरह से हड्डियों से जोड़ा है, जिससे आसानी से कंट्रोल किया जा सके।

Pin It