घंटों चला बवाल, हुई फायरिंग, चले पत्थर, कई गाडिय़ों को तोड़ा

अफवाहों से हुआ नवाबों के शहर में दंगा

  • छावनी में तब्दील हुआ बाजारखाला क्षेत्र, सौ लोगों पर दर्ज हुआ मुकदमा
  • पीएसी सहित अन्य फोर्स रही मौजूद जिलाधिकारी सहित डीआईजी भी पहुंचे

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अफवाहों के कारण नवाबों के शहर में एक बार फिर दंगा हो गया। दो पक्षों में मामूली बात को लेकर जहां पथराव और नारेबाजी होने लगी वहीं स्थानीय पुलिस मूकदर्शक बनी रही। हालात जब बेकाबू हो गये तो पुलिस ने उच्च अधिकारियों को घटना से अवगत कराया। लेकिन जब तक अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचते दो पक्षों में दंगा शुरू हो गया था। दंगे को देखते हुए पुलिस फोर्स और पीएसी लगाई गई। देर रात तक हालात को अधिकारियों ने काबू कर लिया। फिलहाल बाजारखाला क्षेत्र को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। उपद्रवियों को काबू करने के लिए पुलिस ने हवाई फायरिंग और लाठीचार्ज का सहारा लिया। इस मामले में इंस्पेक्टर बाजारखाला विकास कुमार पांडेय ने बताया कि पुलिस की तरफ से दोनों समुदाय के पचास-पचास अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

बाजारखाला के टिकैतगंज स्थित मास्टर कन्हैयालाल रोड पर शुक्रवार को दोपहर लगभग 12 बजे दो समुदाय के बीच हुई मामूली बात पर विवाद हो गया। आरोप है कि एक पक्ष जहां दूसरे पक्ष का लाउडस्पीकर बंद कराना चाहता था वहीं दूसरा पक्ष इस पर राजी नहीं था। जबकि कुछ लोगों का आरोप है कि एक पक्ष ने दूसरे पक्ष के पूजा स्थल में तोडफ़ोड़ किया तो दूसरे पक्ष ने भी तोडफोड़ की। इस तरह की अफवाहें बाजारखाला क्षेत्र में दोपहर से ही उडऩे लगी। इसकी सूचना पुलिस को भी थी। लेकिन पुलिस ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया। जिसका खामियाजा यह हुआ कि देर रात तक अफवाहों को लेकर दोनों पक्षों में दंगा हो गया। नारेबाजी करते हुए सैकड़ों लोग घरों से बाहर निकल आए और एक-दूसरे पर पथराव शुरू कर दिया। कई राउंड हवाई फायरिंग भी की गई। पूरी गलियां पत्थरों से पट गई थी।

हर तरफ मच गयी भगदड़
दंगा होने के बाद स्थानीय लोगों ने अपने घरों में छिपकर खिडि़कियों को भी बंद कर लिया। जबकि व्यवसाई अपनी दुकान बंद कर भागने लगे। सूचना पर पुलिस पहुंची लेकिन उपद्रवियों के आगे बेबस रही। कई घंटे तक उपद्रवी पुलिस के सामने उपद्रव करते रहे और पुलिस देखती रह गई। काफी देर बाद पुलिस एक पक्ष के लोगों को सम्भालने की कोशिश की तो दूसरी तरफ से पथराव और फायरिंग शुरू हो जाती। हालात यह थे कि कई बार पुलिस टीम को स्वयं भागकर अपनी जान बचानी पड़ी। पथराव और तोडफ़ोड़ में लगभग आधा दर्जन से अधिक वाहन जहां क्षत्रिग्रस्त हो गये तो वहीं कई दर्जन चोटिल भी हो गये है। इलाके में तनाव देखते हुए पीएसी तैनात कर दी गई है। डीआईजी आरके चतुर्वेदी और डीएम राजशेखर ने भी घटना स्थल पर पहुंचकर हालात को सम्भालने में जुटे रहे।

Pin It