ग्राम्य स्वास्थ्य सेवाओं के सुधार के लिये मुख्य सचिव ने दिये निर्देश

4पीएम न्यूज़ नेटवर्कCapture
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने समस्त मण्डलायुक्तों एवं जिलाधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवस के आयोजनों एवं प्रदत्त सेवाओं में सुधार लाने हेतु योजना के अनुसार आगामी 3 माह में सम्बन्धित विभागों द्वारा प्रदेश के समस्त जनपदों में ग्राम स्वास्थ्य एवं पोषण दिवस हेतु प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन कराया जाये। उन्होंने कहा कि सर्वप्रथम राज्य स्तर पर जनपद स्तरीय प्रशिक्षकों का 2 दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित कराने के उपरान्त इन प्रशिक्षकों द्वारा जनपद स्तर पर दो दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित कराकर आशा, आंगनबाड़ी, एएनएम तथा सम्बन्धित पर्यवेक्षकीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों की क्षमता में वृद्धि लायी जाये, ताकि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में आम जनमानस विशेषकर असेवित परिवारों तक स्वास्थ्य एवं पोषण सम्बन्धी सेवायें त्वरित गति से पहुंचायी जा सकें।
मुख्य सचिव ने यह निर्देश समस्त मण्डलायुक्तों एवं जिलाधिकारियों सहित पंचायतीराज, बेसिक शिक्षा, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य तथा राज्य पोषण मिशन के वरिष्ठ अधिकारियों को परिपत्र भेजकर दिये हैं। उन्होंने कहा कि जनपद स्तर पर प्रशिक्षित ब्लाक स्तरीय प्रशिक्षकों द्वारा समस्त एएनएम को तीन दिवसीय प्रशिक्षण दिलाया जाये, जिसमें एएनएम को वीएचएनडी के सम्बन्ध में जानकारी दिये जाने के अतिरिक्त विभिन्न कौशलों जैसे-ब्लड प्रेशर लेना, खून एवं पेशाब की जांच, वजन एवं पेट की जांच तथा खतरे वाली गर्भवती महिलाओं को चिन्हीकरण एवं सन्दर्भन के सम्बन्ध में प्रशिक्षित किया जाये। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार आशा एवं आंगनबाडिय़ों का एक दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित कराया जाये, जिसमें ग्रोथ चार्ट भरना, कुपोषित एवं अतिकुपोषित की पहचान, ड्यू लिस्ट भरना एवं गृह भ्रमण के सम्बन्ध में प्रशिक्षित कराना होगा। उन्होंने कहा कि यह समस्त प्रशिक्षण कार्यक्रम आगामी 31 दिसम्बर तक प्रत्येक दशा में पूर्ण कराने होंगे। उन्होंने प्रशिक्षण की गुणवत्ता को सुनिश्चित करने हेतु मण्डलायुक्तों एवं जिलाधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि वे मण्डल एवं जनपद स्तर पर प्रशिक्षण कार्यक्रमों का स्वयं नेतृत्व करें।
उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण कार्यक्रम के सफल आयोजन हेतु सम्बन्धित मण्डलायुक्तों एवं जिलाधिकारियों को अपने अधीनस्थ जनपद स्तरीय सम्बन्धित अधिकारियों को तथा स्वास्थ्य एवं आईसीडीएस विभाग के ब्लाक स्तरीय प्रभारी अधिकारियों की बैठक कर आवश्यक निर्देश देने होंगे। उन्होंने यह भी निर्देश दिये हैं कि बैठक में उन अधिकारियों को अवश्य आमंत्रित किया जाये, जिन्होंने पोषण मिशन के अन्तर्गत विभिन्न ग्रामों को गोद लिया है। उन्होंने कहा है कि बैठक में जनपद में कार्य करने वाले स्वास्थ्य से सम्बन्धित विकासात्मक सहयोगी तथा यूनीसेफ, विश्व स्वास्थ्य संगठन, माइक्रोन्यूट्रियन्ट इनीशियेटिव, सेव द चिल्ड्रेन, क्लींटन हेल्थ एक्सेस इनीशियेटिव, पॉपुलेशन सर्विसेज इण्टरनेशनल आदि संस्थाओं के प्रतिनिधियों की भी भागीदारी सुनिश्चित करायी जाये।

Pin It