ग्रामीणों की आवाज को पुलिस दबाने में माहिर

गौकशी का धंधा

पुलिस की मिलीभगत से कई थाना क्षेत्रों में होता है बेखौफ धंधा
प्रदर्शन करने पर होती है कार्रवाई, उसके बाद शुरू हो जाता है धंधा

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रतिबंधित पश्ुाओं की हत्या कर उनका शव वाहनों में लादकर तस्कर आराम से फरार हो जा रहे है। कई थानों की फोर्स को चुनौती देकर जिस तरह से तस्कर फरार हो जा रहे है उससे पुलिस की कार्रवाई पर भी सवालियां निशान लग रहे है। राजधानी के कई थाना क्षेत्रों में गौकशी का धंधा बड़ी ही तेजी से संचालित हो रहा है। यह धंधा पुलिस की मिलीभगत से हो रहा है। कई मामलों में लापरवाही उजागर होने पर स्थानीय पुलिसकर्मियों के ऊपर कार्रवाई तो हो जाती है लेकिन इस समस्या का समाधान नहीं हो पाता है। हकीकत यह है कि स्थानीय पुलिस सब कुछ जानते हुए तब तक कोई कार्रवाई नहीं करती जब तक आम लोग प्रदर्शन करने के साथ सडक़ जाम नहीं करते है, जिसका खामियाजा उन पुलिसकर्मियों को ही भुगतना पड़ता है।
बता दें कि पीजीआई थाने से कुछ दूरी पर रायबरेली रोड पर खाली पड़े हुए एक प्लाट में गर्भवती गाय को काटने का मामला प्रकाश में आया था। प्लाट में ही लाल रंग की मारूति कार खड़ी ही। इस कार में असलहा भी था। कातिल ग्रामीणों के दौड़ाने पर कार छोडक़र फरार हो गये थे। इस मामले में सैकड़ों ग्रामीण घटनास्थल पर हत्यारों को पकडऩे की मांग करते हुए प्रदर्शन करने लगे। ग्रामीण डीएम को बुलाने की मांग कर रहे है। प्रदर्शन की सूचना मिलने पर मौके पर कई थानों की फोर्स और अधिकारी पहुंच गये। ग्रामीणों के ऊपर पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया। इस मामले में देर शाम डीआईजी आरके चतुर्वेदी ने दारोगा ओपी तिवारी, नरेंद्र बहादुर सिंह सिपाही रामआसरे यादव, सर्वेश कुमार, सतीश कुमार व महेंद्र प्रताप को निलम्बित कर दिया। जबकि पीजीआई थानाध्यक्ष पर जांच होने की बात की जा रही है।
पारा में भी हो चुकी है आगजनी, लाइन हाजिर हुए थे इंस्पेक्टर
पारा थाना क्षेत्र के मोहान रोड पर विगत वर्ष गाय काटने का मामला सामने आया था। ग्रामीणों के प्रदर्शन करने के बाद पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की। प्रदर्शन के दौरान आगजनी की घटना होने के साथ ही सडक़ पर भी जाम लगाया गया था। इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए इंस्पेक्टर राम विशाल सिंह यादव को लाइन हाजिर किया गया था।
मलिहाबाद में भी हुआ प्रदर्शन
मलिहाबाद कोतवाली क्षेत्र में गाय का मामला सामने आने पर प्रदर्शन हुआ था। ग्रामीणों के प्रदर्शन के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की लेकिन कार्रवाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की गई।

Pin It