गोली कांड और दंगों का आरोपी शाहिद गिरफ्तार

  • दंगों में गई थी एक युवक सहित दो की जान
  • एसआईटी की जांच के बाद प्रकाश में आया था मामला

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। वजीरगंज थाना क्षेत्र में 2013 के प्रापर्टी विवाद, दंगों और गोलीकांड का मुख्य आरोपी शाहिद गिरफ्तार कर लिया गया। इस मामले की जांच एसआईटी टीम कर रही थी। उसकी रिपोर्ट के आधार पर शाहिद के खिलाफ पुख्ता सबूत मिले थे। इसलिए मंगलवार को भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी में वजीरगंज से गिरफ्तार कर लिया गया। इस मामले में कुछ और लोगों की गिरफ्तारी की जा सकती है।
वजीरगंज में प्रॉपर्टी विवाद, दंगों और गोलीकांड की जांच जून 2013 में एसआईटी को सौंपी गई थी। एसआईटी की जांच में घटना के मुख्य आरोपी शाहिद का नाम सामने आया। दरअसल वजीरगंज थाना क्षेत्र से महज बीस कदम की दूरी पर धार्मिक विवाद का नाम लेकर क्षेत्र के दबंगों और उनके अन्य साथियों ने आम जनता पर बेखौफ होकर गोलियां चला दी थीं, जिसमें दो बेगुनाहों की दर्दनाक मौत हो गयी थी। इस घटना के बाद ही पूरे शहर में दंगे भडक़े और कई जगह विरोध प्रदर्शन भी हुआ था। दंगों पर लगाम लगने के लिए पुलिस ने कई क्षेत्रों में लाठीचार्ज भी किया था। इस घटना में कई पुलिस कर्मियों को भीं चोटें आई थीं। मामले को संज्ञान में लेते हुए पूरे शहर भर में धारा 144 लागू कर दी गयी थी। वहीं तीन साल बाद एसआईटी ने दंगों को भडक़ाने और हत्या की वारदात को अंजाम देने वाले मुख्य अभियुक्त वजीरगंज थाना क्षेत्र निवासी शाहिद को मंगलवार दोपहर में गिरफ्तार कर लिया। उसे कोर्ट में पेश किया गया। वहीं अनुमान लगाया जा रहा है कि एसआईटी जल्द ही कई अन्य आरोपियों के नामों का भी खुलासा करेगी। फिलहाल शाहिद को जेल भेज दिया गया है।

छात्र नेता रह चुका है शाहिद

दंगा भडक़ाने और हत्या के मामले में पकड़ा गया आरोपी शाहिद क्रिश्चियन कॉलेज का पूर्व छात्र नेता भी रहा है। उसका विवाद वजीरगंज कोतवाली क्षेत्र निवासी शकील नामक एक बिल्डर के पास में बने अपार्टमेंट को लेकर काफी दिनों से चल रहा था। लेकिन आपसी बातचीत बिगड़ी तो शाहिद ने शकील बिल्डर को मारने का मन बना लिया और एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान उसने शकील पर गोलियां चला दीं। कई राउंड हुई फायरिंग के बाद भी बिल्डर बालबाल बच कर निकल गया लेकिन हुसैनाबाद निवासी सुलेमान उर्फ शानू और राजाबाजार निवासी राकेश यादव की गोली लगने से मौत हो गयी थी। इन दो युवकों की मौत के बाद शहर में कई जगह दंगे शुरू हो गए थे।

Pin It