गोमती में गिरने वाले कचरे व मलबे का हो निस्तारण

लखनऊ। गोमती नदी में आकर मिलने वाले नालों से बनाये जा रहे इण्टरसेप्टिंग चैम्बर एण्ड ट्रै्रश रैक से निकलने वाले कचरे व मलबे का निस्तारण किया जाये। इसके लिए नगर आयुक्त/उपायुक्त अलग से बैठक कर जरूरी कार्यवाही करें। ताकि गोमती में गिरने वाले गंदे पानी को रोका जा सके। साथ ही गोमती रिवर फ्रन्ट के प्रथम फेज में प्रस्तावित कार्यों को समय ये पूरा कराया जाये। मुख्य सचिव आलोक रंजन ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को यह निर्देश देते हुए कहा कि गोमती नदी तट विकास के लिए एईकॉम द्वारा डिजाईन क्षेत्र के अतिरिक्त अन्य क्षेत्रफल में दोनों तटों पर ग्रास कारपेट लगाये जायें और जगह-जगह बेन्च लगवाकर अधिकतर क्षेत्र को हरियाली युक्त तट के रूप में विकसित कराया जाये।

Pin It