गाजियाबाद में एके 47 से चली गोलियों से कांपा प्रदेश

  • मायावती ने कहा- प्रदेश में कानून व्यवस्था बदतर, इस्तीफा दे अखिलेश सरकार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
1लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था सिर्फ नाम की रह गई है। आम आदमी हो या वीआईपी कोई भी सुरक्षित नहीं है। अपराधी बेखौफ होकर हत्या, लूट, डकैती, रेप और चोरी की घटनाओं को अंजाम देने में कामयाब हो रहे हैं। वह पुलिस को खुलेआम चुनौती दे रहे हैं। इसके बावजूद पुलिस कुछ नहीं कर पा रही है। सूबे की पुलिस और अधिकारी अपराधियों पर नियंत्रण लगाने की बजाय कमाई वाले थानों पर तैनाती करवाने और वसूली की रकम बांटने में व्यस्त हैं। जबकि आम जनता में खौफ का माहौल है। उसको अपनी सुरक्षा की चिन्ता सताने लगी है।
गाजियाबाद में गुरुवार को देर शाम एके 47 से लैस बदमाशों ने ताबड़तोड़ करीब 45-50 राउंड फायरिंग करके

यूपी की कानून व्यवस्था बद से बदतर होती जा रही है। अपराधी बेखौफ होकर एक के बाद एक वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। सरकार कानून व्यवस्था संभालने में पूरी तरह फेल साबित हो रही है। इसलिए प्रदेश सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए।
मायावती, बसपा सुप्रीमो

गाजियाबाद गोली कांड से साबित हो गया है कि यूपी में लॉ एंड आर्डर बुरी तरह फेल हो चुका है। यहां लॉ एंड आर्डर की बजाय लो आर्डर की स्थिति बन गई है। मां बेटी की सुरक्षा को लेकर हमने कल ही आंदोलन किया था। अब बहुत जल्द कानून व्यवस्था के लिए भी आंदोलन किया जाएगा।
ओम माथुर, प्रदेश प्रभारी बीजेपी

पुलिस तीन थ्योरी पर काम कर रही है। इसमें कई साल पहले एक इनकाउंटर हुआ था। उसको ध्यान में रखकर काम किया जा रहा है। इसके अलावा करीब दो साल पहले हुए मर्डर की घटना को ध्यान में रखकर भी पुलिस जांच कर रही है। फोरेंसिक की टीम भी छानबीन में जुटी है। फिलहाल तेवतिया पर हमले में शामिल हथियार और एक्सयूवी गाड़ी बरामद कर ली गई है। इसके अलावा कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। हिस्ट्रीशीटर शेखर चौधरी की तलाश जारी है। बहुत जल्द घटना को अंजाम देने वाले पुलिस की गिरफ्त में होंगे।
जावीद अहमद  डीजीपी, उ.प्र.

Pin It