गलत निकला निजी चैनल का मुजफ्फरनगर दंगे का स्टिंग

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुजफ्फरनगर दंगे को लेकर एक प्राइवेट न्यूज चैनल के स्टिंग ऑपरेशन को यूपी असेंबली इन्वेस्टिगेशन कमिटी ने गलत करार दिया है। मंगलवार को कमिटी ने कहा कि 17-18 सितंबर 2013 को न्यूज चैनल का स्टिंग ऑपरेशन गलत था। जांच के दौरान यूपी के मंत्री आजम खान के दबाव में कई सस्पेक्ट लोगों को छोड़े जाने और एफआईआर को बदले जाने की बातें साबित नहीं हो पाई हैं। इस मामले में कमिटी ने चैनल के स्टाफ मेंबर और अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की सिफारिश की है।
गौरतलब है कि स्टिंग ऑपरेशन में दिखाया गया था कि दंगों के सस्पेक्ट्स को पॉलिटिकल प्रेशर के कारण छोड़ दिया गया था। इसके बाद दंगे भडक़े थे। स्टिंग में ये भी दिखाया गया कि तत्कालीन डीएम को सस्पेक्ट्स की तलाशी के कारण ट्रांसफर कर दिया गया। पॉलिटिकल प्रेशर के चलते एफआईआर भी बदली गई। इसमें खासतौर पर आजम खान का नाम लेते हुए दिखाया गया। स्टिंग के मुताबिक, आजम ने अधिकारियों को फोन किया, जिससे रिहाई हुई। इस स्टिंग के बाद विधानसभा में बीएसपी नेता स्वामी प्रसाद मौर्या ने दंगे का मामला उठाया और मंत्री के इस्तीफे की मांग की। जिसके बाद यह तय हुआ कि ये मुद्दा सदन की गरिमा से जुड़ा है। लिहाजा पूरे मामले की जांच कराई जानी चाहिए। जिसके बाद जांच कमिटी बनायी गयी।

Pin It