गर्भवती पे्रमिका की नहीं सुन रही पुलिस, थाने से भगाया

शादी का झांसा देकर चार वर्षों से पे्रमी कर रहा यौन शोषण

 Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। ग्राम दोना निवासी शादाब अपने ही गांव की लडक़ी को शादी का झांसा देकर चार साल तक शारीरिक शोषण करता रहा। गर्भवती हो जाने पर युवती से सम्बन्ध तोड़ विवाह करने से इनकार कर दिया। पांच माह की गर्भवती युवती शादाब के खिलाफ शिकायत करने थाने गई तो उसे पुलिसकर्मियों ने भगा दिया गया। युवती एक माह से न्याय के लिए थाने से लेकर आला अफसरों के चक्कर लगा रही है।

काकोरी थाना क्षेत्र के ग्राम दोना निवासी मंसूर (काल्पनिक नाम) की 21 वर्षीय पुत्री सलमा (काल्पनिक नाम) के मुताबिक गांव के निवासी शादाब से उसका गत चार वर्ष से प्रेम-प्रसंग चल रहा है। शादाब उसके साथ शादी करने का झांसा देकर उसके साथ दुराचार करता रहा। जनवरी माह में सलमा के पेट में अचानक दर्द उठा। वह इलाज कराने एराज मेडिकल कॉलेज गयी। जहां डॉक्टरों ने उसके गर्भवती होने की पुष्टि की। यह बात जब उसने अपने परिजनों को बतायी तो परिजनों ने शादाब के घर जाकर शादी करने की बात कही। इस पर शादाब सहित उसके परिजनों ने शादी करने से मना कर दिया, जबकि कई दिन बाद उसका प्रेमी शादाब अपने भाई अफशार व गुफरान के साथ उसके घर पर आकर दवाई देते हुए गर्भ गिराने पर जोर देने लगा। गर्भ नहीं गिराने पर तीनों ने उसे जान से मारने की धमकी भी दी। पीडि़त युवती न्याय के लिये काकोरी थाने पहुंची लेकिन थाने पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने उसे भगा दिया। कोई कार्रवाई न होने पर सलमा ने तीन अप्रैल को क्षेत्राधिकारी मलिहाबाद व 25 मई को अध्यक्ष महिला आयोग को शिकायती पत्र दिया। जहां उसे थाने भेज दिया गया। सलमा का आरोप है कि रविवार को पुन: वह काकोरी थाने पहुंची लेकिन दूसरी बार भी उसे भगा दिया गया।

इस संबंध में सीओ मलिहाबाद अभयनाथ त्रिपाठी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस मामले की जानकारी उनको स्पष्ट रूप से नहीं है। यदि किसी महिला के साथ ऐसा किया जा रहा है तो यह गम्भीर विषय है। घटना सही है तो मुकदमा दर्ज कराके आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।

Pin It