गठबंधन बिना चुनाव लड़ेगी कांग्रेस: शीला दीक्षित

  • अपने दम पर सरकार बनाने का जताया भरोसा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। कांग्रेस से मुख्यमंत्री पद की दावेदार शीला दीक्षित ने आगामी विधानसभा चुनाव में किसी भी दल से गठबंधन न करने का ऐलान करते हुए प्रदेश में अपने दम पर सरकार बनाने का भरोसा जताया है। उन्होंने कहा है कि जनता बदलाव चाहती है। ऐसे में कांग्रेस ही एकमात्र विकल्प है। इसलिए आने वाले चुनाव में जनता कांग्रेस को बहुमत जरूर दिलाएगी।
शीला दीक्षित ने पार्टी मुख्यालय पर आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में खुद चुनाव लडऩे के सवाल पर कहा कि वह चुनाव लड़ेंगी या नहीं। इस बारे में स्थिति स्पष्ट नहीं है। यह महत्वपूर्ण फैसला है। इसलिए पार्टी हाईकमान की तरफ से जो भी आदेश मिलेगा, उसी के अनुसार काम किया जाएगा। वाराणसी में सोनिया गांधी के रोड शो की सफलता से उत्साहित शीला दीक्षित ने प्रदेश की बदहाली के लिए सपा, बसपा और भाजपा को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि 27 वर्ष से बेहाल प्रदेश को पटरी पर लाकर उद्योग-धंधों को विकसित किया जाएगा और युवाओं को रोजगार देंगे। इन वर्षो में जनता भाजपा, सपा व बसपा को आजमा चुकी है। एनडी तिवारी के बाद से प्रदेश में विकास ठप है। इसी कारण प्रदेश विकास के मामले में नीचे से पांचवें नंबर पर आ गया। यहां न तो बिजली है, न रोजगार और न ही इंडस्ट्री है। शीला ने कानून व्यवस्था के मुद्दे पर सपा सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि सडक़ों पर दुष्कर्म की घटनाएं हो रही हैं और प्रदेश सरकार बेफिक्र है। महिलाएं सुरक्षित नहीं होंगी तो विकास को गति नहीं मिलेगी। उन्होंने दावा किया कि केंद्र में मनमोहन सिंह के प्रधानमंत्रित्व काल में ही विकास हुआ था, यह प्रधानमंत्री तो केवल बड़ी-बड़ी बातें करते हैं। गोरक्षा मामले में मोदी के बयान पर शीला दीक्षित ने खेद प्रकट करते हुए कहा कि गोरक्षा की बात करने की बजाय सडक़ों व गलियों में घूम रही गायों की चिंता करनी चाहिए।
शीला दीक्षित ने कहा अब जनता भाजपा से छुटकारा पाने के लिए बेचैन है। वाराणसी की जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से निराश है और सही समय पर जवाब देने के लिए तैयार है। मुरादाबाद नगर निगम में मेयर पद के उपचुनाव में कांग्रेस के शर्मनाक प्रदर्शन के प्रश्न पर शीला ने कहा कि लोकतंत्र में हार जीत लगी रहती है, इस हार से सीखेंगे और आगे बढ़ेंगे। इंदिरा गांधी भी पराजित हुई थीं परन्तु मन से नहीं हारीं।

Pin It