गंजिंग कार्निवाल में सम्मानित हुईं महिलायें

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। हजरतगंज में आयोजित मेगा गंजिंग कार्निवाल के दौरान अपने हुनर और कौशल के बलबूते आसमां छूने वाली महिलाओं को सम्मानित किया गया। इस कार्यक्रम की मुख्य अतिथि आकांक्षा समिति की अध्यक्ष सुरभि रंजन ने महिलाओं को सम्मानित करने को गौरव की बात कहा और महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चलाये जाने वाले जागरूकता कार्यक्रमों की सराहना की।
सुरभि रंजन ने अपने संबोधन में कहा कि नारी सशक्तिकरण का मतलब है कि नारी सुरक्षित, शिक्षित, स्वस्थ और स्वतंत्र हो। अपने हुनर और कौशल के दम पर खुद को स्थापित करने वाली महिलाओं को सम्मानित कर मैं खुद को सम्मानित महसूस कर रही हूं। उन्होंने कहा कि आकांक्षा समिति की ओर से महिलाओं की सुरक्षा को लेकर जागरुकता कार्यक्रम चलाया जा रहा है। अब तक समिति की ओर से 500 लड़कियों को मु त जुडो-कराटे की ट्रेनिंग दी जा चुकी है। जो लड़कियां जूडो-कराटे की ट्रेनिंग लेना चाहती हैं, वह अपना नाम मुझको देकर मुफ्त में प्रशिक्षण ले सकती हैं। इस समिति की ओर से 125 गरीब महिलाओं को रोजगार भी उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने कन्या भ्रूण हत्या और दहेज के लिए महिलाओं को जलाया जाने पर चिन्ता व्यक्त की। इसके साथ ही लोगों को शपथ दिलाई कि कन्या भ्रूण हत्या नहीं करेंगे, नारी का सम्मान करेंगे। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम को सफल बनाएंगे। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही महिला आयोग की अध्यक्ष जरीना उस्मानी ने कहा कि शक्ति मां है, मां दुर्गा है सरस्वती है और हर घर में इनकी पूजा होती है। महिलाओं को सहारा और सम्मान मिले तो वह बहुत आगे जा सकती हैं। संविधान में महिला और पुरुष को बराबर का अधिकार दिया गया है। महिलाओं को पुरुष के बराबर सम्मान देने के लिए सकारात्मक सोच की जरुरत है। महिलाओं को सम्मान देंगे तो समाज आगे बढ़ेगा। विशिष्टï अतिथि के रुप में उपस्थित राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष जूही सिंह ने कहा कि महिला सुरक्षा, स्वास्थ्य को लेकर लखनऊ खुद में एक मिसाल हो गया है। इस अवसर पर स्कूली बच्चों ने रंगारंग कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया।
इन महिलाओं को किया गया सम्मानित
मेगा गंजिंग कार्निवाल में नारी शक्ति की प्रतीक 10 महिलाओं को सम्मानित किया गया। इसमें इलेक्ट्रिीशियन बबिता पाल, महंत देव्यागिरी, लुटेरों से भिडऩे वाली नीलम सिंह, लविवि की पहली महिला प्रोवोस्ट व प्राक्टर प्रो. निशी पांडेय, यशभारती से सम्मानित कथक नृत्यांगना कुमकुमधर, आर्किटेक्ट विपुल वाष्र्णेय, गीतकार अनुपमा राग, रंगमंच से जुड़ी मृदुला भारद्वाज, चिकनकारी के लिए रूना बनर्जी, डाक्टर डॉ. चंद्रावती शामिल रहीं।

वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मूर्तियों का भू-विसर्जन

Pin It