खुली बैठक में होगी कोटेदारों की नियुक्ति

जिले की 77 नई ग्राम पंचायतों में कोटेदारों की नियुक्ति की कार्ययोजना तैयार

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जिले की नई ग्राम पंचायतों में कोटेदारों की नियुक्ति को लेकर कार्ययोजना तैयार हो चुकी है। अब नव निर्मित ग्राम पंचायतों में उचित दर विक्रेताओं की रिक्तियों को भरने की प्रक्रिया शुरू की जाने वाली है। इस संबंध में सभी ग्राम प्रधानों को उचित दर विक्रेताओं से संबंधित आवेदन पत्र क्षेत्रीय लोगों से भरवाने और वितरण व्यवस्था सुनिश्चित करवाने में सहयोग करने की बात कही गई है। इसके बाद खुली बैठक में कोटेदारों की नियुक्ति पर अंतिम निर्णय लिया जायेगा।
जिलाधिकारी राज शेखर ने दो दिन पूर्व जिले के सभी उप जिलाधिकारियों को नवनिर्मित ग्राम पंचायतों में अगले महीने तक सभी रिक्त पदों पर कोटेदारों की नियुक्त करने का निर्देश दिया था। इसका मकसद ग्राम पंचायतों के परिसीमन के बाद कई ग्राम पंचायतों में रिक्त पड़े उचित दर विक्रेताओं की रिक्तियों को भरना था। इसलिए सभी उप जिलाधिकारियों को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 को एक मार्च 2016 से प्रभावी ढंग से लागू करवाने का निर्देश दिया गया है। ऐसे में सभी ग्राम पंचायतों में उचित दर विक्रेताओं की दुकानों का निर्धारण और कोटेदारों के माध्यम से वितरण व्यवस्था को प्रभावी बनाना जरूरी हो गया है।
गौरतलब है कि जिले में परिसीमन की प्रक्रिया के बाद तहसील बख्शी का तालाब में 30, मोहनलालगंज में 15, मलिहाबाद में 18, सदर में 10 और सरोजनीनगर में 4 ग्राम पंचायतें नव निर्मित हैं। इस तरह कुल 77 उचित दर विक्रेताओं की नियुक्ति और दुकानों का निर्धारण अधिकतम एक माह के अंदर किया जाना है। इसमें कोटेदारों की नियुक्ति ग्राम सभा की खुली बैठक में पूरी पारदर्शिता और उपयुक्तता के आधार पर करने की कार्ययोजना बना ली गई है। इसमें ग्राम प्रधानों की तरफ से भी सहयोग किया जा रहा है। ऐसे में महीने भर के अंदर सभी नव निर्मित ग्राम पंचायतों में कोटेदारों की नियुक्ति का काम पूरा होने की उम्मीद है।

Pin It