खिलवाड़ बन गयी पॉलीटेक्निक की परीक्षा

  • नकल माफिया पर नकेल कसने में नाकाम रहे जिम्मेदार
  • एक महीने में तीन बार आउट हुआ पेपर, सचिव समेत 20 पर चला डंडा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सूबे में पॉलीटेक्निक की परीक्षा खिलवाड़ बनकर रह गई है। एक महीने में तीन बार पेपर आउट होने से प्राविधिक शिक्षा परिषद की शुचिता पर सवाल उठने लगे हैं। अभी तक छात्रों का रिजल्ट में गड़बड़ी को लेकर प्राविधिक शिक्षा परिषद किरकिरी हो रही थी और अब पेपर आउट होने के लेकर। गुरुवार को होने वाला गणित का पेपर एक दिन पहले ही लीक हो गया तो परीक्षा फिर कैंसिल कर दी गई। अब यह परीक्षा 11 जुलाई को होगी। तीसरी बार पेपर आउट होने से प्रमुख सचिव प्राविधिक शिक्षा मुकुल सिंंघल ने प्राविधिक परीक्षा परिषद के सचिव एसके सिंह और पश्चिम क्षेत्र के संयुक्त निदेशक सुरेंद्र प्रसाद समेत 20 अधिकारियों और कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया।
एक ही महीने में तीसरी बार पेपर आउट होने के चलते विभाग को तीनों बार पेपर कैंसिल करना पड़ा। 13 मई 2016 को एप्लाइड फिजिक्स का कथित पेपर मार्केट में लीक हो गया था। इस मामले में परीक्षा रद्द कर दी गई थी। इसके बाद मैथ्स के पेपर की हैंडरिटेन कॉपी व्हाट्सऐप पर वायरल होने से परीक्षा रद्द करनी पड़ी थी। प्राविधिक शिक्षा सचिव एके सिंह ने बताया कि गुरुवार को पॉलिटेक्निक के मैथ्स का पेपर होना था। इसका प्रश्नपत्र आउट होने की सूचना मिली। पेपर लीक होने के चलते परीक्षा कैंसिल कर दी गई। फिलहाल इसकी जांच कराई जा रही है।
इस समय पूरे प्रदेश में पॉलिटेक्निक की वार्षिक परीक्षा चल रही है। गुरुवार सुबह प्रथम पाली में एप्लाइड मैथ-ढ्ढ (ए-3/ इंजी 1501) की परीक्षा निर्धारित थी। लेकिन यह पेपर बुधवार को ही मार्केट में उपलब्ध हो गया। गणित का पेपर मार्केट में आने की खबर फैलते ही परीक्षा समिति ने गुपचुप तरीके से बैठक बुलाई और गुरुवार को सुबह ही पेपर कैंसिल कर दिया। परीक्षार्थियों को सूचना नहीं थी, लिहाजा जब वह परीक्षा केंद्र पहुंचे तो उन्हें इस बात की जानकारी हुई। फिलहाल मामले को गंभीरता से लेते हुए 20 लोगों को संस्पेंड कर दिया गया है।

Pin It