कौशल प्रशिक्षण में अभ्यर्थियों के पंजीकरण के लिए शुरू हो पोर्टल: आलोक रंजन

4Captureपीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने निर्देश दिये हैं कि आगामी वित्तीय वर्ष 2016-17 में उ.प्र. कौशल विकास मिशन द्वारा कम से कम 5 लाख युवाओं को विभिन्न योजनाओं/कार्यक्रमों के तहत कौशल प्रशिक्षण दिलाया जाना सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने कहा कि कौशल प्रशिक्षण हेतु नये अभ्यर्थियों के पंजीकरण हेतु उ.प्र. कौशल विकास मिशन के पोर्टल को पुन: खोलते हुये यह व्यवस्था सुनिश्चित की जाये कि पूर्व से पंजीकृत प्रशिक्षण हेतु अनिच्छुक युवाओं के नाम चिन्हित कर पोर्टल से हटाते हुये इच्छुक नये युवाओं को पंजीकरण का पूरा अवसर प्रदान किया जाये।
मुख्य सचिव शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में उ.प्र. कौशल विकास मिशन के अन्तर्गत गठित राज्य संचालन समिति की 8वीं बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने उ.प्र. कौशल विकास मिशन के अन्तर्गत अनुबन्धित लक्ष्मी कॉटसिन लि. एवं सुपर हाउस लि. द्वारा प्रशिक्षण कार्य में रुचि न लेने पर फ्लैक्सी एम.ओ.यू. निरस्त किये जाने के भी निर्देश दिये। उन्होंने मारूती सुजुकी इण्डिया लि., लार्सन एण्ड टूब्रो लि. सहित अन्य एजेन्सियों के कौशल विकास मिशन के अन्तर्गत कौशल प्रशिक्षण दिलाने हेतु फ्लैक्सी एमओयू कराने पर सहमति व्यक्त करते हुये निर्देश दिये कि सम्बन्धित एजेन्सियों द्वारा युवाओं को प्रशिक्षणोपरान्त कम से कम 80 प्रतिशत इन हाउस रोजगार अवश्य उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाये। बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त प्रवीर कुमार, प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल, सचिव व्यावसायिक शिक्षा भुवनेश कुमार, प्रमुख स्टाफ ऑफिसर मुख्य सचिव एवं सचिव कार्यक्रम क्रियान्वयन श्री आलोक कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

Pin It