कोर्ट में हाजिर नहीं हो रहा शाइन सिटी का मालिक राशिद नसीम

जारी हो सकता है गैर जमानती वारंट

अनाथ छात्रा तिल-तिल कर मरने को मजबूर, पैसों के दम पर दर्ज करा रहा है गवाहों पर फर्जी मुकदमा
वाराणसी में दर्ज कराया हुआ मुकदमा निकला फर्जी, पुलिस ने लगाई फाइनल रिपोर्ट

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। शाइन सिटी का मालिक राशिद नसीम यदि कोर्ट में हाजिर नहीं हुआ तो इसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हो सकता है। लगातार कई बार गैर हाजिर होने के बाद अधिवक्ताओं ने यह आशंका जाहिर की है। फिलहाल स्वयं को महिलाओं का रक्षक कहने वाला राशिद नसीम एक अनाथ छात्रा की जिंदगी बर्बाद कर रहा है।
यह हालत तब है जब अधिकारी से लेकर नेता तक महिलाओं को सुरक्षित और महिलाओं को प्रताडि़त नहीं करने का बयान हर जगह हर समय देते रहते है। यदि नेता और अधिकारी इस मामले को गम्भीरता से नहीं लेते है तो स्वाभाविक है कि अनाथ छात्रा एक न एक दिन आतमहत्या कर लेगी और इसका जिम्मेदार रासिद नसीम होगा। क्योंकि छात्रा ने अपने फेसबुक पर भी लिखा है कि राशिद नसीम की करतूतों के कारण वह आत्महत्या कर सकती है।

यह है मामला
बता दें कि वाराणसी जनपद के सिगरा क्षेत्र निवासी कोमल (काल्पनिक नाम) अपनी पढ़ाई के लिए लखनऊ आ गई। शिक्षा में रुपए बाधा नहीं बने इसके लिए कोमल ने वर्ष 2008 में शाइन सिटी इंफ्रा कम्पनी में बतौर कम्प्यूटर ऑपरेटर नौकरी ज्वाइन कर ली। लेकिन कम्पनी के मालिक राशिद नसीम उर्फ राशिद खान का जब प्रताडऩा का दौर प्रारम्भ हुआ तो थमने का नाम नहीं लिया। कभी छेडख़ानी तो कभी नौकरी से निकालने की धमकी राशिद द्वारा कोमल को मिलती रही। कोमल के मुताबिक वर्ष 2013 के अगस्त माह में राशिद अपने साथियों के साथ उसका अपहरण कर सहारा सिटी के पास स्थित अपने गेस्ट हाउस में ले गया। लेकिन पूरे दिन रहने के बाद शाम को कोमल किसी तरह से अपनी जान बचाकर वहां से फरार हो गई। इस मामले में कोमल गोमतीनगर थाने का चक्कर लगाती रही लेकिन पुलिस ने बिल्डर राशिद के खिलाफ मुकदमा तक नहीं दर्ज किया। कई माह तक चक्कर लगाने के बाद एएसपी दिनेश यादव ने मामले को संज्ञान में लेते हुए एक नवम्बर 2014 को गोमतीनगर थाने में अपहरण, जालसाजी, मारपीट, छेडख़ानी सहित कई संगीन धाराओं में कोमल की तहरीर पर राशिद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया लेकिन राशिद के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। छात्रा का आरोप हैं कि राशिद कई अंजान नम्बरों से उसे धमकी देता रहता हैं। इतना ही नहीं जहां उसके और उसके गवाहों और उसके खिलाफ फर्जी मुकदमा दर्ज कराता रहता है वहीं उसका फोन भी ट्रैप करवाता है। फिलहाल राशिद के खिलाफ पुलिस ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है।

14 सितम्बर को पड़ी है डेट
कोर्ट ने कई बार हाजिर होने के लिये राशिद नसीम को नोटिस भी दिया लेकिन राशिद नसीम हाजिर नहीं हुआ। पीडि़ता के मुताबिक कोर्ट ने 14 सितम्बर को तारीख लगाई है। यदि इस बार राशिद नसीम हाजिर नहीं हुआ तो उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हो सकता है।

छात्रा पर दर्ज कराया मुकदमा निकला फर्जी
रासिद नसीम अपने रुपये के दम पर आये दिन छात्रा और गवाहों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराता रहता है। वाराणसी में छात्रा पर दर्ज कराया गया मुकदमा फर्जी पाने पर पुलिस ने उसमें फाइनल रिपोर्ट लगा दी है। छात्रा का कहना है कि इलाहाबाद में राशिद नसीम ने एक महिला के सहयोग से उसके गवाह रवीश पर छेउख़ानी का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस जांच में पाया गया है कि महिला के पास रवीश मौजूद नहीं था।

दोहरा चरित्र अपनाता है राशिद नसीम

एक तरफ महिलाओं को आगे बढऩे के लिए करोड़ों रुपये का खर्च तो दूसरी तरफ महिला को ब्लैकमेल करने और उसे तिल-तिल कर मरने पर मजबूर करने का धंधा करता है शाइन सिटी का मालिक राशिद नसीम। नेशनल अवार्ड से सम्मानित व सुविख्यात अभिनेत्री कंगना रनौत अपने फिल्म तनु वेड्स मनु रिर्टंस के प्रमोशन के लिए आईनॉक्स में आई थी। जहां प्रचार में शाइन सिटी का बोर्ड भी लगा हुआ था। सवाल उठता हैं कि शाइन सिटी का मालिक अपना प्रचार करवाने के लिए करोड़ों रुपए का खर्च किया होगा। आम लोगों को उसने यह दिखाने की कोशिश किया कि वह महिलाओं का सम्मान करने के साथ ही उनको आगे बढऩे में मदद करता है लेकिन दूसरी तरफ यही शाइन सिटी का मालिक राशिद नसीम अपने ही कार्यालय में कार्य करने वाली एक युवती के साथ ऐसा कारनामा किया कि इंसानियत भी शर्मशार हो जाए।

Pin It