कैट का फैसला सुरक्षित

अमिताभ प्रकरण

लखनऊ। निलंबित आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर द्वारा अपने खिलाफ जांच करने के लिए अध्यक्ष पुलिस भर्ती और प्रोन्नति बोर्ड वी के गुप्ता को जांच अधिकारी और आईजी कार्मिक बी पी जोगदंड को प्रस्तुतकर्ता अधिकारी नामित किये जाने को दी चुनौती पर कैट ने आज अपना फैसला सुरक्षित कर लिया। न्यायिक सदस्य नवनीत कुमार की बेंच ने श्री ठाकुर और राज्य सरकार के अधिवक्ता सुदीप सेठ की बहस सुनने के बाद यह आदेश दिया और गुरुवार तक फैसला घोषित करने की बात कही।
यूपी सरकार ने श्री ठाकुर को 13 जुलाई 2015 को निलंबित करते हुए 14 जुलाई को जांच अधिकारी नियुक्त कर प्राथमिकता के आधार पर जांच पूरी कर शासन को उपलब्ध कराने और श्री ठाकुर को इस जांच में पूर्ण सहयोग के लिए कहा था। श्री ठाकुर ने इसे चुनौती देते हुए कहा कि अखिल भारतीय सेवा अनुशासन एवं अपील नियमावली के नियम 8(6) के अनुसार किसी आईपीएस अफसर के खिलाफ जांच अधिकारी तभी नियुक्त किया जा सकता है जब उसके द्वारा नियम 8(5) में आरोपों का जवाब दे दिया गया हो लेकिन इस मामले में उन्हें 13 जुलाई का आरोप पत्र जारी किया गया जो उन्होंने 15 जुलाई को प्राप्त किया लेकिन इसके पहले 14 जुलाई को ही प्रदेश सरकार ने जांच अधिकारी नियुक्त कर दिया।

मलिहाबाद में मिला प्रेमी-प्रेमिका का शव
लखनऊ। मलिहाबाद के सिंगरामऊ के जंगल में आज सुबह संदिग्ध हालत में प्रेमी-प्रेमिका का शव मिला। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मलिहाबाद के सिगरामऊ निवासी 22 वर्षीय सूरज का संडीला निवासी एक युवती से प्रेम प्रसंग बताया जा रहा है। युवती कुछ दिन पहले घर से गायब हो गई थी। संडीला थाने में उसकी गुमशुदगी का परिजनों ने मुकदमा दर्ज कराया था। सोमवार की सुबह दोनों का शव मलीहाबाद के वंशीगढ़ी जंगल में संदिग्ध हालत में मिला। मौके जहर की शीशी मिली है।

Pin It