कैंट क्षेत्र में दूर होगी नेटवर्क की समस्या

  • बोर्ड बैठक में 19 मोबाइल टावर लगाने को मिली मंजूरी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कैंट क्षेत्र की 60 हजार की आबादी को अब कमजोर मोबाइल नेटवर्क की समस्या से नहीं झेलनी पड़ेगी। मंगलवार को कैंट बोर्ड की बैठक में 19 पोर्टेबल मोबाइल टावर लगाने का प्रस्ताव पास कर दिया गया। इस क्षेत्र में जो भी टावर लगेंगे, वो एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से स्थानान्तरित किए जा सकेंगे क्योंकि सभी टॉवरों के बेस में पहिए लगे होंगे। ये टावर जरूरत पडऩे पर उन जगहों पर ले जाए जा सकेंगे, जहां नेटवर्क कमजोर हो। वहीं बोर्ड बैठक में ओवरहैड टैंक के टेंडर के मुद्दे पर जमकर हंगामा भी हुआ। सदस्यों ने ओवरहेड टैंक की समस्या का निदान करवाने की मांग रखी।
कैंट इलाके में रहने वाले लोगों को पानी की समस्या का सामना न करना पड़े, इसके लिए चार ओवरहेड टैंक बनने थे। इसके लिए टेंडर पड़े थे, लेकिन बोर्ड बैठक में सैन्य अधिकारियों ने रेट ज्यादा रखने की बात कह कर टेंडर खारिज कर दिया। इस पर पप्पू शर्मा, रीना सिंघानिया समेत ज्यादातर पार्षदों ने विरोध करना शुरू कर दिया। इस मुद्दे पर काफी देर तक हंगामा हुआ। पार्षदों का कहना था कि टैंक न बनने के कारण गर्मी में लोगों को परेशानी होती है। टेंडर रद होने से अगले साल भी लोगों को पेजयल संकट से जूझना पड़ेगा।

बच्चों के लिए स्कॉलरशिप

कैंट के स्कूलों में पढऩे वाले मेधावी बच्चों के लिए 3.90 लाख रुपये का स्कॉलरशिप का प्रस्ताव बैठक में पास कर दिया गया। बैठक में कैंट के अस्पतालों में नए डॉक्टरों की नियुक्ति का मामला भी उठा। अधिकारियों ने बताया कि अस्पतालों से कई डॉक्टर जा चुके हैं, ऐसे में नए डॉक्टर नियुक्त करने की जरूरत है। इस बैठक में पार्षदों ने प्रस्ताव केवल अंग्रेजी में रखने का विरोध किया। पार्षद संजय दयाल ने कहा कि बहुत सारे लोग हिंदी ही समझते हैं और यह हमारी राष्ट्रभाषा है, ऐसे में सभी प्रस्ताव हिंदी में भी रखे जाने चाहिए। पार्षदों की इस मांग पर सेना के अधिकारी शांत रहे, हालांकि पार्षद इस मुद्दे पर काफी देर तक हंगामा करते रहे।

Pin It