केजीएमयू से दलालों की होगी छुट्टी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। केजीएमयू में दलालों की भरपूर पैठ है। प्रॉइवेट पैथोलॉजी सेंटर के दलाल रोजाना भोलेभाले मरीजों को अपने जाल में फंसाते हैं। इससे केजीएमयू की छवि भी खराब होती है। दलालों से केजीएमयू को निजात दिलाने के लिए विश्विद्यालय प्रशासन सख्त कदम उठाते हुए केजीएमयू के सभी वार्डों में खून से संबंधित जांचों के कलेक्शन सेंटर खोलने पर विचार कर रहा है। दरअसल केजीएमयू में पैथोलॉजी संबंधित जांच के लिए मरीजों को दो से तीन काउंटरों पर चक्कर लगाना पड़ता है क्योंकि जांच से संबंधित पैसा जमा करने सहित ब्लड सैंपल जमा करने के काउंटर अलग-अलग हैं।
इन प्रक्रियाओं के चलते मरीजों को कई काउंटरों पर चक्कर लगाना पड़ता है। वार्डों के बाहर घात लगाये बैठे दलाल मरीजों को फंसा ले जाते हैं। केजीएमयू के प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि दलालों की वार्ड में घुसने की हिम्मत नहीं पड़ती है। वह मरीज को वार्ड के बाहर ही अपने जाल में फंसाने की कोशिश करते हैं। जब प्रत्येक वार्ड में ही यह व्यवस्था हो जायेगी तो दलालों की छुट्ïटी होना लाजमी है। इसके आलावा केजीएमयू में जल्द से जल्द सभी वार्डों को ई-चार्टिंग की व्यवस्था से लैस किया जायेगा।
केजीएमयू धीरे-धीरे यह व्यवस्था लागू करने में जुटा है। इसी व्यवस्था के अंतर्र्गत केजीएमयू में सीपीएमएस लागू किया गया है। योजना को जमीनी स्तर पर लागू करने के लिए डॉक्टरों सहित कर्मचारियों के केबिन में सभी के लिए कंप्यूटर की व्यवस्था की गई है। साथ ही जांचों को ऑनलाइन करने पर जोर दिया जा रहा है। इससे डॉक्टर मरीज की जांच रिपोर्ट को कंप्यूटर पर ही देख सकेंगे। केजीएमयू प्रशासन लगातार अपने स्तर को बढ़ाने में जुटा है। पिछले तीन से चार सालों में जिस तरह से केजीएमयू की गुणवत्ता में सुधार हुआ है वह काबिले तारीफ है। किडनी ट्रांसप्लांट सहित तमाम कार्यों में केजीएमयू ने सफलता प्राप्त की है। विश्विद्यालय प्रशासन ने तमाम मुश्किल कार्यों को करने में सफलता प्राप्त की है। जिसके चलते देश के टॉप मेडिकल कॉलेजों की सूची में केजीएमयू दूसरे नंबर पर है। नेपाल में आये भूकंप से पीडि़त लोगों को राहत पहुंचाने में केजीएमयू के डॉक्टरों ने अपनी जान लगा दी। इसके लिए मुख्यमंत्री की ओर से भी डॉक्टरों को धन्यवाद कहा गया था। केजीएमयू में हर रोज 10 से 15 हजार मरीज आते हैं। इससे अंदाजा लगााया जा सकता है कि इतनी बड़ी व्यवस्था को संभालना कितना मुश्किल है लेकिन पिछले दो तीन सालों से जिस तरह से केजीएमयू ने उड़ान भरी है, उससे जाहिर है कि प्रदेश के मरीजों को बेहतर इलाज मिलने में देर नहीं है।
राजधानी में खुला एक और बजाज ऑटो का शोरूम
लखनऊ। युवाओं को दिलों पर राज करने वाली तथा मजबूती और एवरेज में अपना नाम करने वाली और अत्याधुनिक एवं ऑटोमोटिड तकनीक से युक्त बजाज बाइक का राजधानी में एक और शोरूम खुल गया है। इसका उद्ïघाटन रायबरेली रोड स्थित आम्रपाली सेनानी बिहार में किया गया। इसका नाम नामधारी बजाज रखा गया है। शोरूम का उद्ïघाटन बजाज कंपनी के उप महाप्रबंधक आशीष कुमार स्वाइन ने किया।

Pin It