केजीएमयू में कैंसर की जांच के लिए वूसला जा रहा शुल्क

  • गांधी वार्ड में भर्ती है बच्चा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने सरकारी अस्पतालों में गरीबों के इलाज के लिए मुफ्त इलाज की व्यवस्था की है। फिर भी केजीएमयू में असाध्य रोगों का भी इलाज मुश्किल है। यहां कैंसर जैसे गंभीर बीमारी से पीडि़त बच्ची से वसूली की जा रही है।
केजीएमयू के गांधी वार्ड में भर्ती कैंसर पीडि़त बच्चे का इलाज गरीब परिवार पर भारी पड़ रहा है। नियमों को धता बताते हुए डॉक्टर बच्चे के अभिभावकों से जांच शुल्क वसूल रहे हैं। इसके चलते गरीब माता-पिता मुसीबत में हैं। जबकि बच्चे के अभिभावक के पास खाने के लिए पैसे नहीं हैं। ऐसे में वह इलाज के लिए पैसे कहां से जुटाएं। बाराबंकी में फूल बेचने वाले का दो वर्षीय बेटा कैंसर से पीडि़त है, जिसका इलाज केजीएमयू में चल रहा है। बच्चे का कैंसर कार्ड भी बना है। इसके बावजूद गांधी वार्ड में उसे जांच के नाम पर 1340 रुपये का बिल थमा दिया गया। यही नहीं एक दूसरे बच्चे से भी ब्लड जांच के लिए हर रोज सौ रुपये लिया जा रहा है। इस संबंध में चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विजय कुमार कहते हैं कि असाध्य रोगियों की जांचें व इलाज निश्शुल्क है। ऐसे में शुल्क कैसे लिया गया इसकी पड़ताल की जाएगी।

Pin It