कुपोषण दूर करने की दिशा में होगा प्रभावी काम

  • सीएम ने श्रावस्ती के एक गांव को ‘राज्य पोषण मिशन’ के अन्तर्गत गोद लेने का लिया निर्णय 
  • गर्भवती महिलाओं और अतिकुपोषित बच्चों को दिया जाएगा गर्म भोजन और एक फल

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गर्भवती महिलाओं और अतिकुपोषित बच्चों के लिए एक समेकित योजना (हौसला पोषण योजना) आगामी 20 जून से लागू करने का निर्णय लिया है। उन्होंने यह फैसला राज्य पोषण मिशन की समीक्षा बैठक के दौरान लिया। बैठक में सीएम ने इस योजना को प्रभावी ढंग से लागू करने के उद्देश्य से जनपद श्रावस्ती के एक गांव को ‘राज्य पोषण मिशन’ के अन्तर्गत गोद लेने का भी निर्णय लिया। उन्होंने मुख्य सचिव से भी अपेक्षा की है कि वे बहराइच जनपद के एक गांव को गोद लें। बैठक में सांसद कन्नौज, डिम्पल यादव भी उपस्थित थीं।
समीक्षा बैठक में बताया गया कि योजना के अन्तर्गत गर्भवती महिलाओं और अतिकुपोषित बच्चों को एक पूर्ण आहार और पोषण विषयक परामर्श उपलब्ध कराने के साथ-साथ उनका नियमित वजन लिए जाने की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। इसके अलावा इन गर्भवती महिलाओं और अतिकुपोषित बच्चों को गर्म और पका हुआ भोजन उपलब्ध कराने के साथ-साथ उन्हें एक फल भी खाने के लिए मुहैया कराया जाएगा। बैठक में अधिकारियों ने बताया कि इस योजना का ट्रायल जिलाधिकारी और मुख्य विकास अधिकारी द्वारा समस्त गोद ली गई ग्राम सभाओं में किया जा चुका है। बैठक के दौरान मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों, मुख्य विकास अधिकारियों एवं मण्डलीय व जनपदीय अधिकारियों द्वारा अब तक 7,643 ग्राम सभाएं गोद ली जा चुकी हैं।
जिला प्रशासन द्वारा मासिक समीक्षा कर मिशन की गतिविधियों का प्रभावी अनुश्रवण भी किया जा रहा है। इस योजना के अन्तर्गत 6 सहयोगी विभागों के मध्य आवश्यक समन्वयन के दृष्टिगत मुख्य विकास अधिकारी को मिशन का मुख्य कार्यकारी अधिकारी नामित किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि राज्य पोषण मिशन के व्यापक प्रचार-प्रसार के दृष्टिगत पोषण से सम्बन्धित 5 विज्ञापन फिल्मों एवं 5 रेडियो जिंगिल्स तैयार कराए जाएंगे और उनका टीवी चैनलों एवं रेडियो पर सूचना विभाग के माध्यम से प्रसारण सुनिश्चित कराया जाएगा।

Pin It