किसानों की खुशहाली के बिना प्रदेश का विकास संभव नहीं

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। किसानों की खुशहाली के बिना प्रदेश का विकास संभव नहीं है। इसीलिए राज्य सरकार वर्तमान वर्ष को ‘किसान वर्ष’ घोषित करके गांव एवं किसान की तरक्की के लिए हर सम्भव मदद उपलब्ध करा रही है। किसानों की आर्थिक तरक्की तय करने के लिए उन्हें वैज्ञानिक तौर-तरीकों से खेती करने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है और उन्हें लाभकारी कृषि मूल्य दिलाने का प्रयास भी किया जा रहा है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने
सरकारी आवास पर पूर्व प्रधानमंत्री स्व चौधरी चरण सिंह के 113वें जन्मदिवस पर आयोजित कार्यक्रम ‘किसान सम्मान दिवस’ को सम्बोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि पर्यावरण में बदलाव का सबसे अधिक असर किसानों को झेलना पड़ रहा है। इसलिए सभी को मिलकर वर्तमान परिस्थितियों में पर्यावरण की हिफाजत के लिए कदम उठाना होगा। इस मौके पर उन्होंने धान, मक्का, अरहर, उर्द, सोयाबीन, गेहूं, चना, मटर, मसूर तथा राई एवं सरसों की फसलों में प्रति हेक्टेयर उच्च उत्पादकता प्राप्त करने वाले 30 किसानों को फसलवार प्रथम पुरस्कार के लिए 20 हजार, द्वितीय पुरस्कार के लिए 15 हजार और तृतीय पुरस्कार के लिए 10 हजार रुपए, शाल और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। साथ ही श्री यादव ने औद्यानिक, पशुपालन, गन्ना तथा मत्स्य क्षेत्र में अच्छा उत्पादन करने वाले दो-दो किसानों एवं प्रगतिशील कृषक शिवराम सिंह को क्रमश: 15-15 हजार रुपए, एक शॉल तथा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।

Pin It