कल माया का शक्ति प्रदर्शन, इस बार प्रशासन की हिम्मत नहीं हो रही होर्डिंग हटाने की

बाबा साहब के जन्मदिन के बहाने

लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में सवा लाख समर्थकों का हुजूम जुटाने की योजना
बसपा के समर्थन में उतरे पदोन्नति में आरक्षण समाप्त होने से नाराज कर्मचारी संगठन

rwe1प्रभात तिवारी
लखनऊ। बाबा साहब अंबेडकर के जन्म दिन को इस बार बसपा अपने कार्यकर्ताओं में जोश भरने का माध्यम बना रही है। पूरे लखनऊ को मायावती के फोटो और नीले होर्डिंग से रंग दिया गया है। हर बार प्रशासन इस तरह लगे नियम विरुद्ध सैकड़ों होर्डिंग को हटवा देता था, मगर इस बार अफसरों की हिम्मत इन होर्डिंग को हटाने की नहीं हो रही है। बसपा के नेता इस बाबत कह रहे हैं कि अफसरों को भी समझ आ रहा है कि बसपा की सरकार बनने वाली है, लिहाजा वह होर्डिंग हटाने से परहेज कर रहे हैं। कल के आयोजन के लिए बसपा ने दिन-रात एक कर दिया है। कल के आयोजन के साथ ही बसपा सुप्रीमो मायावती विधानसभा चुनाव का आगाज करने की योजना बना रही हैं।
एबीपी न्यूज चैनल के सर्वे में बसपा के आगे आने की खबर के बाद बसपा नेता गदगद हैं। अपने समर्थकों में आयरन लेडी के नाम से मशहूर मायावती पूरी दमदारी के साथ बसपा को अगले विधानसभा चुनाव में सबसे शक्तिशाली पार्टी साबित करने में जुट गई हैं। इसी वजह से लखनऊ में भीमराव अंबेडकर के 125वें जन्म दिवस पर कम से कम सवा लाख समर्थकों की भीड़ जुटाने की कोशिश में हैं। इसके लिए बसपा के सभी नेताओं को कार्यक्रम में शामिल होने और अपने साथ कम से कम एक हजार समर्थकों को लेकर आने का निर्देश दिया गया है। इसे गंभीरता से लेते हुए पदाधिकारी और कार्यकर्ता पूरे मनोयोग से जुटे हुए हैं। उनमें भी एबीवीपी की चुनावी सर्वे रिपोर्ट के बाद नया जोश दिखने लगा है। इतना ही नहीं तमाम सरकारी विभागों के अधिकारियों और कर्मचारियों में अंबेडकर के जन्म दिवस पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम की तैयारियों का दबाव दिखने लगा है। शहर में यातायात व्यवस्था, सफाई, पेयजल, बिजली और सुरक्षा व्यवस्था समेत अन्य सभी सुविधाओं का भरपूर ध्यान रखा जा रहा है। आम आदमी से लेकर सरकारी विभागों में कार्यरत अधिकारी तक को लग रहा है कि आगामी विधान सभा चुनाव में मायावती का पलड़ा भारी है।

मेरठ शहर में घुसा तेंदुआ, दहशत, स्कूल बंद

कैंट एरिया के आर्मी स्कूल में कल घुसा था तेंदुआ
फाजलपुर गांव में तेंदुए ने कई लोगों को किया घायल
अस्पतालों में बंद है खिडक़ी-दरवाजे, घरों में कैद हुए लोग
तेंदुए को पकडऩे के लिए दिल्ली से बुलाई गई टीम

मेरठ। मेरठ में तेंदुए के डर से कफ्र्यू जैसे हालात हो गए है। लोग अपने घरों में कैद हो गए है। अस्पतालों में खिडक़ी, दरवाजे बंद कर दिए गए है। कल आर्मी अस्पताल में घुसे तेंदुए ने देर रात फाजलपुर गांव में कई लोगों को घायल कर दिया। घायलों को सुभारति अस्पताल में भर्ती कराया गया है। तेंदुए के आतंक के कारण आज शहर के सभी स्कूल बंद रखने के आदेश जारी कर दिए गए। वन विभाग की टीम अभी तक तेंदुए को पकड़ नहीं पाई है। ऐसे में दिल्ली से स्पेशल टीम को बुलाया गया है। आज स्पेशल टीम के साथ मिलकर तेंदुए को पकडऩे का प्रयास किया जा रहा है। पिछली बार की तरह इस बार भी तेंदुआ टीम को चकमा देकर भाग गया। दो साल पहले भी इसी इलाके में तेंदुआ घुस आया था जोकि दो-तीन दिन शहर में रहकर अपने आप कहीं गायब हो गया था।

मेरठ कैंट स्थित सैनिक अस्पताल में कल सुबह तेंदुआ घुस गया था। पहले तेंदुआ महिला और बच्चा वार्ड में देखा गया था। सुबह साढ़े सात बजे तेंदुआ देखे जाने के बाद सैनिक अस्पताल में अफरा-तफरी मच गई। वार्ड को आनन-फानन में बंद किया गया । कुछ देर के बाद उसे बरगद के पेड़ पर बैठा देखा गया। वन विभाग और प्रशासन के पास तेंदुए को पकडऩे के लिए कोई व्यवस्था नहीं थी। दिल्ली से टीम आई लेकिन उनके पास भी न्यूमेटिक गन नहीं थीं। काफी देर बाद दुधवा नेशनल पार्क से टीम बुलाई गई। रात में पहुंची टीम ने उसे टैंकुलाइज किया लेकिन तीसरा शॉट मारते ही वह बरगद के पेड़ से कूद रेसकोर्स की ओर भाग निकला। यह हालत तब है जब करीब दो साल पहले तेंदुआ मेरठ के कैंटोनमेंट अस्पताल में घुस आया था और पूरा शहर तीन दिन दहशत में रहा था। उस वक्त भी अधिकारियों की लापरवाही से तेंदुृआ तमाम व्यवस्थाओं को ध्वस्त करते हुए भाग निकला था। लेकिन वन विभाग से लेकर स्थानीय प्रशासन और सेना तक में से कोई नहीं चेता। फिलहाल आज दिल्ली की टीम के साथ वन विभाग के कर्मचारी तेंदुए को पकडऩे के प्रयास में लगे है।

Pin It