कलाम के सपनों को पूरा करने का युवाओं ने उठाया बीड़ा

  • कलाम कन्क्लेव के दूसरे दिन विभिन्न मुद्दों पर हुई चर्चा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की पहली बरसी पर राजधानी में दो दिवसीय कलाम कनक्लेव का आयोजन किया गया है। इसमें देश-विदेश के अलग-अलग क्षेत्रों में विशेषज्ञता रखने वाले लोग शामिल हुये। कन्क्लेव के दूसरे दिन विशेषज्ञों ने कलाम साहब द्वारा प्रस्तुत किये गये कई तथ्यों पर विस्तार से चर्चा की। इस कन्क्लेव में युवाओं को शामिल करने पर विशेष जोर दिया गया ताकि युवाओ को इससे जोड़ कर मिसाइलमैन के प्रश्न ‘धरती को जीवित कैसे रखा जाए’ पर गहनता से विचार किया जाए।
मिसाइलमैन के अंतिम क्षणों में उनके साथ रहे सृजनपाल का कहना था कि कलाम साहब ऐसे तो सभी लेक्चर पूरे किए हैं, पर उनके आखिरी लेक्चर में अधूरा शब्द ‘धरती को कैसे जीवित रखा जाए’ को पूरा करने का प्रयास किया जाना चाहिए। कलाम साहब की यह दिली इच्छा थी कि एक ऐसा प्लेटफार्म बनाया जाए जिससे एक साथ यूथ को जोड़ा जा सके।
कार्यक्रम में भाग लेने वाले प्रतिभागियों में 13 साल से 35 साल उम्र तक के लोग हैं। कार्यक्रम में जीवन से जुड़े तमाम विषयों को रखा गया है। इस कार्यक्रम को हर साल मनाया जाएगा।

Pin It