कर्मचारियों का हंगामा व प्रदर्शन

अपनी मांगों को लेकर

कर्मचारियों की भीड़ देखकर हाथ पैर फूले प्रशासन के
कर्मचारियों ने कहा कि हम तैयार हैं आर-पार की लड़ाई के लिए

 Y14पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अपनी मांगो को लेकर लाखों कर्मचारी आज लखनऊ में भारी प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदेश के कई स्थानों पर बसों को रोक दिया गया है, जिससे कर्मचारी लखनऊ न पहुंचे। कर्मचारियों ने कहा है कि यदि उनकी मांगे न मानी गयीं तो भयंकर चक्का जाम करेंगे। कर्मचारियों की भारी भीड़ देखते हुए आस-पास के जनपदों से भारी पुलिस बल बुला लिया
गया है। प्रशासन को आशंका है कि यदि इन कर्मचारियों ने मुख्यमंत्री निवास की तरफ कूच किया तो लेने के देने
पड़ सकते हैं।
कर्मचारियों की मांग है कि उन्हें केन्द्रीय कर्मचारियों के समान भत्ता दिया जाय। पुरानी पेंशन व्यवस्था को बहाल किया जाय। आउटसोर्सिंग खत्म करके नियमित भर्ती शुरू हों। 7, 14, 20 साल पर प्रोन्नत वेतनमान दिया जाय। निगम सहित सभी राज्य कर्मचारियों को छठा वेतन आयोग दिया जाय।
कर्मचारी भयंकर प्रदर्शन कर रहे हैं और खबर लिखे जाने तक वह मुख्यमंत्री निवास की तरफ कूच करने की योजना बना रहे हैं। आज हुए इस प्रदर्शन के चलते शहर की यातायात व्यवस्था भी बहुत प्रभावित  रही है और कई जगह भारी जाम लगा हुआ है।

सीएम को दुआ देते हुए रवाना हुए तीर्थयात्री

समाजवादी श्रवण योजना ने जीत लिया बुजुर्गों का दिल
आज अजमेर शरीफ और पुष्कर के लिए रवाना हुए तीर्थयात्री
विजय मिश्रा और नवनीत सहगल ने विदा किया यात्रियों को

लखनऊ। समाजवादी पार्टी की सबसे महत्वाकांक्षी श्रवण योजना के तहत आज तीर्थयात्रियों को अजमेर और पुष्कर के लिए रवाना किया गया। धर्मार्थ कार्य मंत्री विजय मिश्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री की इच्छा है कि प्रदेश के सभी बुजुर्ग, जो तीर्थ यात्रा करना चाहते हैं उन्हें सरकार पूरी सुविधा दे और सम्मानपूर्वक उन्हें तीर्थ यात्रा कराये। अखिलेश यादव की इस योजना ने विपक्ष खास तौर से भाजपा की नींद उडा दी है। इस योजना के अन्तर्गत पहले ही सरकार बड़ी संख्या में तीर्थ यात्रियों को हरिद्वार और बद्रीनाथ की यात्रा करा चुकी है। जाहिर है जो लोग सरकार पर एक धर्म विशेष का हित साधने का आरोप लगाते थे, उन्हे इस योजना के शुरू होने के बाद समझ नहीं आ रहा कि अब सरकार पर क्या आरोप लगाया जाय।
जब धर्मार्थ कार्य के प्रमुख सचिव नवनीत सहगल ने यह प्रस्ताव बनाया तो शुरूआती दौर में नहीं लग रहा था कि सरकार को इसका इतना सकारात्मक जवाब जनता से मिलेगा। मगर जैसे ही इस योजना की शुरूआत हुई तो सभी ने कहना शुरू किया कि ये बेहद सराहनीय योजना है। मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित कार्यक्रम में खुद सीएम ने इस कार्यक्रम में नवनीत सहगत की प्रशंसा करते हुए कहा कि धर्मार्थ कार्य विभाग महत्वहीन समझा जाता है और लोग कहते हैं कि यहां काम नहीं है। मगर श्री सहगल ने यहां भी सराहनीय योजना चलाकर साबित कर दिया कि अधिकारी चाहे तो हर जगह अच्छा काम कर सकते हैं। आज सुबह चारबाग पर जब धर्मार्थ कार्य मंत्री विजय मिश्रा और प्रमुख सचिव नवनीत सहगल इन तीर्थयात्रियों को विदा करने के लिए स्टेशन पर पहुंचे तो वहां पर तीर्थयात्रियों का भयंकर जमावड़ा था। तीर्थयात्रा पर जाने वाले यात्री बेहद भावुक थे और वह कह रहे थे कि मुख्यमंत्री की वजह से वह इस आयु में तीर्थयात्रा कर सके। सपा नेता डा. रोली तिवारी मिश्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री की संवेदनशीलता का इससे बड़ा उदाहरण दूसरा कोई नहीं हो सकता कि वह उन बुजुर्गों को तीर्थयात्रा करा रहे हैं, जो इस उम्र में धनाभाव के कारण कभी सोच भी नहीं सकते थे।

Pin It