करोड़पति मंत्री गायत्री प्रजापति का दिलचस्प कारनामा, बेटी को दिलवाया कन्या विद्याधन

लोकायुक्त से की गई मामले की शिकायत

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कभी गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले बदनाम खनन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति आज करोड़ों के मालिक बन चुके हैं। महज दो वर्षों में बनाई इस काली कमाई के बलबूते आज गायत्री के पास कई बंगले, गाडिय़ां और बेहिसाब दौलत है। इसके बावजूद भी वह खुद को बीपीएल श्रेणी (गरीबी रेखा से नीचे) में ही मानते हैं। ऐसा हम नहीं कह रहे, ऐसा तो इन बदनाम मंत्री की करतूत खुद चीख-चीख कर कह रही है।
गौरतलब है कि पिछले दिनों अमेठी में कन्या विद्याधन का चेक वितरण का कार्यक्रम रखा गया जिसमें बतौर मुख्य अतिथि खनन मंत्री भी पहुंचे। यहां सबसे रोचक बात यह रही कि कन्या विद्या धन पाने वालों में मंत्री की बेटी अंकिता भी शामिल रहीं। अब यह तो मंत्री जी ही बता सकते हैं कि आखिर किस तरह से उन्होंने अपनी बेटी को कन्या विद्या धन दिलवाया? क्या उन्होंने अपनी सारी संपत्ति दान कर दी या फिर अपनी पहुंच का गलत फायदा उठा कर अपनी बेटी को इस योजना का लाभ दिलवाया। जो भी हो इस मामले में गायत्री एक फिर फंसते नजर आ रहे हैं। इस पूरे प्रकारण को लेकर अब गायत्री के खिलाफ लोकायुक्त में शिकायत की गयी है। लोकायुक्त में शिकायत करने वाले रजनीश ने मंत्री पर अपनी बेटी को गलत तरीके से कन्या विद्या धन दिलवाने का आरोप लगाया है।

सरकार को शर्मसार करते रहे हैं प्रजापति
अपने रोचक कारनामों की वजह से भ्रष्टï मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति सरकार को अक्सर शर्मसार करते रहे हैं। चाहें वो अवैध खनन हो या फिर ग्राम समाज की जमीन पर अवैध कब्जा मंत्री ने हर क्षेत्र में अपनी काबिलियत साबित की है। या यूं कहें की सरकार को शर्मसार करने का कोई भी मौका मंत्री जाने नहीं देते।

मंत्री की बेटी अंकिता है करोड़ों की मालकिन!

वर्ष 2012 में ओमशंकर द्विवेदी ने लोकायुक्त में शिकायत कर यह आरोप लगाया था कि मंत्री के बेटी अंकिता के नाम करोड़ों की चल-अचल संपत्ति है। यह सारी संपत्ति कुछ ही वर्षों में बनाई गयी। जब्कि अंकिता के आय का स्रोत न के बराबर है। इसके साथ ही ओमशंकर द्विवेदी ने मंत्री की पत्नी और बेटे की संपत्तियों के जांच की भी मांग की थी और यह आरोप लगाया था कि अवैध खनन के माध्यम से हाने वाली काली कमाई को मंत्री अपने रिश्तेदारों और संबंधियों के नाम से संपत्ति लेने में खर्च कर रहे हैं। जिससे की सीधे तौर पर वह फंसते नजर न आयें।
क्या कहना है रजनीश का
फैजाबाद के रहने वाले रजनीश कुमार सिंह ने इस मामले में लोकायुक्त से शिकायत की है। उनका कहना है कि कन्या विद्या धन योजना सिर्फ गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वालों के लिए होती है। फिर कैसे इस योजना में मंत्री की बेटी का नाम शामिल कर लिया गया। कन्या विद्या धन योजना में छात्र, माता-पिता और प्रिंसिपल से शपथ पत्र लिया जाता है तो मंत्री यह कहकर नहीं बच सकते कि यह मेरी जानकारी में नहीं है।

गायत्री प्रसाद प्रजापति से जुड़े विवाद

वर्ष 2012 में ओमशंकर द्विवेदी ने प्रजापति पर आय से अधिक संपत्ति जमा करने का आरोप लगाया था। इसमें कहा गया था कि 2012 विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन में गायत्री ने अपनी कुल संपत्ति 1.81 करोड़ रुपए बताई थी जो अब बढक़र 942.57 करोड़ रुपए हो गई है।
इसके पहले गायत्री प्रसाद प्रजापति पर लखनऊ में ग्राम समाज की जमीन पर अवैध कब्जा कर प्लॉट बेचने का आरोप लगा था।
इसके अलावा गायत्री के बेटे पर अमेठी में तहसील की सरकारी जमीन पर कब्जा करने का आरोप भी लग चुका है।
पूर्व में अमेठी की एक विधवा ने गायत्री प्रसाद प्रजापति पर अपनी जमीन पर कब्जा करने का आरोप भी लगाया था। अपनी गुहार लेकर पीडि़त विधवा अपने परिवार के साथ लखनऊ में धरने पर बैठ गई थी।
गायत्री के बेटे अनुराग पर एक महिला का अपहरण करने का भी आरोप लग चुका है।

Pin It