कप्तान ने आरआई से मांगी सूची, दिया पुलिसकर्मियों को पेश होने का आदेश

कप्तान के आदेश से ड्यूटी मुंशी के होश उड़े
Captureबाहर गये पुलिसकर्मियों को होने लगा फोन

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पुलिस लाइन में कार्यरत पुलिसकर्मियों द्वारा व्यक्तिगत कार्य करने की खबर प्रकाशित होने के बाद रिजर्व पुलिस लाइन में हडक़म्प मच गया है। कप्तान राजेश कुमार पांडेय ने इस मामले में जांच का आदेश देने के साथ ही पुलिसकर्मियों की सूची और उनको अपने सामने पेश होने का आदेश दिया है। कप्तान के आदेश को सुनकर ड्यूटी मुंशी के होश उड़ गए हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक मुंशी ने रिजर्व पुलिस लाइन से गायब पुलिसकर्मियों को फोन करके जल्दी लाइन में उपस्थित रहने का आदेश दे दिया है। आशंका जताई जा रही है कि किसी भी समय कप्तान रिजर्व पुलिस लाइन में छापा मार सकते हैं।
बता दें कि ‘सांध्य हिन्दी दैनिक 4 पीएम’ ने आठ सितम्बर के अंक में ‘वेतन पुलिस विभाग का, कार्य व्यक्तिगत’ के नाम से खबर प्रकाशित करते हुये रिजर्व पुलिस लाइन में तैनात पुलिसकर्मियों के कार्यों के बारे में पोल खोली थी। खबर प्रकाशित होने के बाद विभाग में हडक़म्प मच गया। इस मामले में कप्तान ने सभी पुलिसकर्मियों के बारे में जानकारी आरआई से मांगते हुये सभी को पेश होने का आदेश दिया। कप्तान के आदेश से ड्यूटी मुंशी से लेकर सिपाही सकते में आ गए हैं। बता दें कि लखनऊ पुलिस लाइन में दारोगा और सिपाही मिलाकर लगभग 1012 पुलिसकर्मियों की तैनाती है। इसमें कुछ अपने कार्य के कारण जहां लाइन हाजिर हुये है वहीं कुछ लोगों का पहुंच नहीं होने के कारण पुलिस लाइन में मजबूरी में ड्यूटी दे रहें है। इन पुलिसकर्मियों में लगभग 350 पुलिसकर्मी गनर के लिये लगाये गये है। जबकि कुछ पुलिसकर्मियों का सरकारी विभागों में ड्यूटी लगाई गई है। शेष लगभग पांच सौ सिपाही पुलिस लाइन में रहते है। पुलिस सूत्रों की मानें तो परेड के समय या कभी भी कोई अधिकारी इनकी गिनती कर सकता है। गिनती करने पर सैकड़ों पुलिसकर्मी अनुपस्थित मिलेंगे जबकि रजिस्टर में उनकी उपस्थिति रहेगी। लेकिन पुलिस के उच्च अधिकारियों का इस मामले पर कोई ध्यान ही नहीं जाता है। यदि कभी-कभार ध्यान गया तो मामला डांट-फटकार तक ही सीमित रहता है।

ऐसे होता है खेल
पुलिस लाइन में मौजूद दारोगा और सिपाही ड्यूटी मुंशी से अपनी सेटिंग कर लेते है। पुलिस सूत्रों की मानें तो ड्यिूटी मुंशी ऐसे सिपाहियों की ड्यिूटी ऐसे स्थान पर लगाता है जहां रहना और नहीं रहने का कोई मतलब नहीं होता है। इस एवज में पांच हजार से लेकर दस हजार रुपये प्रतिमाह तक ड्यिूटी मुंंशी लेता है। यह रुपया पुलिस लाइन के ही अधिकारियों में बंट जाता है। यदि कभी-कभार कोई अधिकारी किसी पुलिसकर्मी को अनुपस्थित पाता है तो ड्यूटी मुंशी उसे बचा लेता है। इतना ही नहीं ज्यादा कड़ाई होने पर ड्यूटी मुंशी उसे वापस पुलिस लाइन में बुला लेता है।

पुलिसकर्मियों की मांगी गई है सूची: एसएसपी

इस संदर्भ में एसएसपी राजेश कुमार पांडेय ने कहा कि आरआई से रिजर्व पुलिस लाइन में मौजूद पुलिसकर्मियों की सूची मांगने के साथ उनको पेश होने का आदेश दे दिया गया है। इसके साथ ही इन कार्यों में लिप्त अधिकारियों पर भी कार्रवाई होगी।

Pin It