कक्षा छह से इनरोल होंगे छात्र, आगे की पढ़ाई के लिए मिलेंगी सारी सुविधाएं

निशीथ राय ने बताईं शकुंतला मिश्रा यूनिवर्सिटी की उपलब्धियां

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। डॉ. शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में अगले सत्र से विशेष विद्यालय खोला जाएगा। इसमें कक्षा छह से लेकर 12वीं तक के दिव्यांग बच्चों को पढ़ाया जाएगा। जो बच्चा कक्षा छह में यहां इनरोल होगा वह यहां से 12वीं स्नातक, परास्नातक, रिसर्च तक कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त अन्य उच्च शिक्षा भी उन्हें परिसर में ही मिल सकेगी।
उक्त बातें विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. निशीथ राय ने गुरुवार को एक प्रेसवार्ता के दौरान बताई। उन्होंने अपने दो वर्ष का कार्यकाल पूर्ण होने पर अपनी उपलब्धियां बताते हुए कहां कि विश्वविद्यालय में आगे भी कई ऐसी योजनाओं पर कार्य करने पर विचार चल रहा है। कुछ योजनाएं अगले सत्र से शुरू हो जाएंगी।
उन्होंने अपनी योजनाओं और चुनौतियों के विषयों में बताया कि द्वितीय दीक्षांत समारोह का आयोजन कराना है। इसमेंं बतौर मुख्य अतिथि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आना तय है लेकिन अभी तक प्रधानमंत्री कार्यालय से कोई तिथि नहीं मिल पाई है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि फैकल्टी ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी की स्थापना और इसके अंतर्गत विभिन्न विधाओं को बीटेक पाठ्यक्रम शुरू करना है। दूरस्थ शिक्षा प्रणाली के माध्यम से बीएड विशेष शिक्षा देने की तैयारी है, इसमें शुरुआत में 500 विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा। साथ ही बीए, बीकॉम और बीएससी बीएड विशेष शिक्षा चार वर्षीय इंटीग्रेटेड कोर्स संचालित किया जाएगा। उनकी योजनाओं में बैरियर फ्री स्टेडियम, फूड एंड ड्रग टेस्टिंग सेंटर और बधिर विद्यार्थियों को रोजगारपरक शिक्षण प्रशिक्षण देने के लिए डेफ कॉलेज खोला जाएगा।

दिव्यांग बच्चों के लिए नि:शुल्क शिक्षा
कुलपति ने बताया कि इस विश्वविद्यालय की स्थापना 2008 हुई लेकिन विश्वविद्यालय 2014 तक कुल 478 विद्यार्थी थे। उसी वर्ष छात्रों की कमी के कारण का आकलन किया गया। इसमें सामान्य और विशेष बच्चों की फीस कम करने का प्रयास किया गया। सीएम ने दिव्यांग छात्रों की शिक्षा को मुफ्त कर दिया है।

Pin It