ओवरब्रिज बनाने का काम ठप

विभागीय खींचतान में नहीं मिल पा रही एनओसी
रेलवे ने ओवरब्रिज निर्माण का कार्य रुकवाया

 Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। आवास विकास की वृंदावन योजना और अवध विहार योजना को जोडऩे के मकसद से रेलवे लाइन के ऊपर बनाये जा रहे ओवरब्रिज का निर्माण कार्य तीन महीने से ठप चल रहा है। इसमें कार्यदायी संस्था राज्य सेतु निगम ने रेलवे के अधिकारियों पर एनओसी देने में लापरवाही का आरोप लगाया है। वहीं ओवरब्रिज बनाने का काम ठप होने से क्षेत्रीय लोगों को रोजाना घंटों जाम से जूझना पड़ता है।
आवास विकास परिषद के चीफ इंजीनियर आरके अग्रवाल के मुताबिक उतरेठिया रेलवे स्टेशन के पास ओवरब्रिज बनाने का काम शुरू करने से पहले रेलवे के स्थानीय अधिकारियों से अनुमति ली गई थी। इसके बाद राज्य सेतु निगम ने ओवरब्रिज बनाने का काम शुरू किया था। लेकिन बाद में रेलवे के अधिकारियों ने ओवरब्रिज का निर्माण कार्य रुकवा दिया, उनका कहना है कि ओवरब्रिज बनाने के लिए कार्यदायी संस्था और आवास विकास से दिल्ली से अनुमति लेनी होगी। इस पर आवास विकास के अधिकारियों ने स्थानीय स्तर पर रेलवे अधिकारियों की तरफ से मिली ओवरब्रिज बनाने का अनुमति पत्र दिखाया लेकिन अधिकारी मानने को तैयार नहीं थे। जबरन ओवरब्रिज का निर्माण कार्य रूकवा दिया गया। करीब तीन महीने से ओवरब्रिज बनाने का काम ठप चल रहा है। हालांकि आवास विकास परिषद ने मामले की गंभीरता को ध्यान में रखकर ओवरब्रिज बनाने की अनुमति लेने का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड के पास मंजूरी के लिए भेज दिया है लेकिन वहां से रेलवे लाइन के ऊपर ओवरब्रिज बनाने की कोई अनुमति नहीं मिली है। आवास विकास को रेलवे बोर्ड से अनुमति मिलने का इंतजार है। अनुमति मिलने के बाद ही ओवरब्रिज बनाने का काम शुरू हो सकेगा।
गौरतलब हो कि ओवरब्रिज का निर्माण कार्य रुकने और ओवरब्रिज बनने में देरी के कारण लागत बढऩे का खतरा मंडरा रहा है। वहीं दूसरी तरफ क्षेत्रीय जनता को आवागमन में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल आवास विकास की इन दोनों योजनाओं में सैकड़ों परिवार रहते हैं। इनको रोजाना उतरेटिया स्टेशन से गुजरना पड़ता है। हर आधे-एक घंटे पर ट्रेन आने से कारण और रेलवे फाटक बंद होने की वजह से लोगों को घंटों जाम से जूझना पड़ता है। इस क्षेत्र के लोगों के पास कोई दूसरा रास्ता भी नहीं है। इस कारण रोजाना जाम की समस्या झेलने को मजबूर हैं।

Pin It