ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया ने बढ़ायी छात्रों की दिक्कतें

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Capturetलखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में स्नातक में प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन भरना था लेकिन प्रवेश फार्म भरने में कॉफी गड़बडिय़ां सामने आ रही हैं। कहीं स्टूडेंट अपने नाम लिखने के बाद सब्जेक्ट नहीं लिख पा रहे हैं तो कहीं विषय के चयन का ऑप्शन नहीं दिया है जिसके कारण छात्रों के प्रवेश फार्म में लगातार गड़बडिय़ां हो रहीं हैं। इस परिस्थिति को देखते हुए विवि नें छात्रों को प्रवेश फार्म में दोबारा सुधार की सुविधा दी है।
लखनऊ विश्वविद्यालय में प्रवेश फार्म भरने के लिए छात्र अपने नाम व जन्मतिथि और सब्जेक्ट की च्वाइस देने में गड़बडिय़ां कर रहे हैं। यह गड़बडिय़ां छात्रों की ओर से तो कम एनआईसी द्वारा डिजाइन किए गए ऑनलाइन आवेदन फार्म के कारण ज्यादा हो रही हैं। दूसरे राज्य से हाईस्कूल या इंटर करने वाले छात्रों के फार्म सबमिट नहीं हो पा रहे हैं। वहीं कुछ दिक्कतें ऐसे छात्रों की भी आ रही हैं जिन छात्रों ने हाईस्कूल के बाद इंटर के लिए बोर्ड बदला है उनका फार्म भी सबमिट नहीं हो पा रहा है। ऐसे छात्र परेशान होकर कभी साइबर कैफे तो कभी विश्वविद्यालय के चक्कर लगा रहे हैं। छात्रों का कहना था कि एक तो प्रवेश फार्म भरने की प्रक्रिया इतनी लम्बी है तो वहीं सर्वर भी परेशान कर रहा है। पहले तो प्रवेश फार्म डाउलोडिंग में घंटों लग रहे हैं तो वहीं अब यह नयी दिक्कत सामने आ गयी है। अब जरूरी आप्शन ही नजर नहीं आ रहा है। जहां एक ओर विवि प्रशासन ने छात्रों की समस्याओं को कम करने के लिए ऑनलाइन की सुविधा प्रदान की वहीं दूसरी ओर यह सुविधा स्वयं विवि के लिए मुसीबत बन गयी है। इन सब दिक्कतों को और छात्रों के भविष्य को ध्यान में रखकर विवि प्रशासन छात्रों के प्रवेश फार्म में सुधार करने के लिए ऑनलाइन करेक्शन की सुविधा शुरू कर रहा है। समाजकार्य विभाग में हेल्प डेस्क बनेगी या फिर छात्रों को ऑनलाइन पासवर्ड देकर ही दोबार फॉर्म खोलकर उसमें हुई गलतियों में सुधार किया जायेगा। वहीं इन त्रुटियों में सुधार करने के लिए एनआईसी के अधिकारियों के बीच एक महत्वपूर्ण बैठक की गयी जिसमें छात्रों के प्रवेश फार्म में सुधार करने का मौका देने पर सहमति जतायी। जिन छात्रों के प्रवेश फार्म में त्रुटियां हों वह छात्र विवि को प्रार्थना पत्र व ईमेल के जरिये सूचना दे सकते हैं।

Pin It