ऑनलाइन आवेदन की तैयारियों में जुटा एलयू

  • आवेदकों को पहले से पता होगी काउंसलिंग की तिथि

  • कैश कांउटर पर नहीं लगानी होगी लंबी लाइन

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में नए सत्र की प्रवेश प्रक्रिया के लिए विश्वविद्यालय ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी है। हर बार प्रवेश प्रक्रिया में छात्रों को बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। इसी को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय ने छात्रों के लिए आवेदन प्रक्रिया को सरल बनाने का फैसला किया है। इसमें ऑनलाइन प्रक्रिया को बेहतर बनाने की योजना है।
बीते साल प्रवेश प्रक्रिया ऑनलाइन होने के बाद भी छात्रों को कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा। इसके बाद दाखिले की प्रक्रिया को ऑफलाइन कर दिया गया। जिससे विश्वविद्यालय के साथ-साथ छात्रों का काफी समय बर्बाद हुआ था। इस बार छात्रों को कोई दिक्कत न हो इसलिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने प्रक्रिया पर अपनी पैनी नजर बनाई हुई है। ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत इस बार आवेदन के समय ही छात्रों को काउंसिलिंग की तिथि भी बता दी जाएगी।
अक्सर ऐसा होता है की इंटर की परीक्षा के बाद छात्र प्रवेश फार्म तो भर देते हैं लेकिन काउंसलिंग की तिथि के इंतजार के कारण वह कहीं जा नहीं पाते हैं। कुछ छात्र प्रवेश फार्म भर कर छुट्टियां मनाने निकल जाते हैं। ऐसी स्थिति में छात्र काउंसलिंग में समय से नहीं पहुंच पाते हैं। जिसके कारण उन्हें विश्वविद्यालय प्रशासन के लोगों का चक्कर काटना पड़ता हैं। इसके लिए काउंसलिंग का विस्तृत शेड्यूल बनाया जा रहा है। पिछले सालों में कई बार ऐसा हुआ कि काउंसलिंग तिथि घोषित होने के बाद भी अधिकतर छात्र उसमें शामिल होने में चूक गए। इसके बाद छात्रों के भविष्य को देखते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन को दोबारा काउंसिलिग की तिथि जारी करनी पड़ी। सूत्रों की माने तो जब छात्रों को आवेदन के समय ही तिथि पता होगी तो वह काउंसिलिंग में शामिल होने के लिए वे पहले से तैयार रहेगें। हालांकि काउंसलिंग में एक से दो दिन का बदलाव होने की संभावना रहेगी। काउंसलिंग के लिए आवश्यक दस्तावेज की जानकारी भी दे दी जाएगी।
मेरिट से ही होंगे दाखिले
कुछ समय पहले कुलपति एसबी निमसे ने प्रवेश प्रक्रिया में बदलाव लाने के लिए प्रवेश परीक्षा कराने के लिए एक कमेटी बनाकर लोगों से सुझाव मांगा था। लेकिन विभागों के एक मत न हो पाने के कारण विवि में पुराने तरिके से ही प्रवेश लिया जाएगा। जिसमें छात्रों की मेरिट के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा।

प्रमाण पत्रों की बाद में होगी जांच

बीते साल तक सूची में नाम आने के बाद काउंसलिंग के समय अभ्यर्थी के प्रमाण पत्रों और मार्कसीट की जांच की जाती थी। लेकिन इस बार इस प्रक्रिया को भी बदलने पर विश्वविद्यालय प्रशासन विचार कर रहा है। यदि सहमति बन गई तो अभ्यर्थियों का डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन सीट एलॉटमेंट के बाद सीधे डीन ऑफिस में किया जाएगा।
ऑनलाइन जमा होगी फीस
दाखिले की नई प्रक्रिया में छात्रों को फीस जमा करने के लिए कैश काउंटर पर लम्बी लाइन नहीं लगाना होगा। क्योंकि इस बार अभ्यर्थी घर बैठे आवेदन कर सकेंगे। मेरिट के आधार पर विश्वविद्यालय सूची जारी करके रैंक के अनुसार फीस जमा करने का समय देगा। अभ्यर्थी ऑनलाइन फीस जमा कर सकेगा। प्रवेश प्रक्रिया में सुधार के लिए प्रवेश समन्वयक और उनकी टीम और भी कई योजनाएं तैयार कर रही है। जिससे की इस बार प्रवेश में और किसी तरह की कोई समस्या न आए।

Pin It