एलयू में सामने आया रैगिंग का मामला जूनियर छात्र को सीनियरों ने पीटा

  • पीडि़त छात्र का बचाव करने पहुंचे दूसरे गुट से भिड़ा रैगिंग लेने वाला गुट
  • प्रॉक्टोरियल बोर्ड ने आरोपी छात्रों के खिलाफ जारी किया नोटिस

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Capture9लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में रैगिंग का मामला सामने आया है। विवि कैम्पस में शुक्रवार को एमएससी इलेक्ट्रानिक्स के छात्र विवेक की सीनियर छात्र अजीत प्रताप सिंह और उनके साथियों ने रैगिंग ली। इस दौरान कुछ सवालों का जवाब न दे पाने से नाराज सीनियरों ने उसको बुरी तरह पीटा। ऐसे में बीच बचाव करने पहुंचे दूसरे गुट के सीनियर छात्र विनय सिंह और अजीत प्रताप सिंह के बीच काफी बहस हो गई और दोनों छात्र गुटों में जमकर मारपीट हुई। इस मामले में पीडि़त विवेक की तरफ से प्रॉक्टर आफिस में लिखित शिकायत की गई है।
लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन की तमाम कोशिशों के बाद भी उपद्रवियों पर काबू पाने में नाकाम साबित हुआ है। रैंगिग को रोकने के लिए प्रॉक्टोरियल बोर्ड ने जगह-जगह नोटिस चस्पा की गई है। छात्रों को निर्देश भी दिए गए हैं। इसके बावजूद रैगिंग रुकने का नाम नहीं ले रही है। कैंपस में रोजाना उपद्रवी छात्र नियमों की धज्जियां उड़ाते फिरते हैं। दरअसल शुक्रवार को लविवि के गेट नंबर एक पर अजीत प्रताप सिंह और विनय सिंह के दो गुटों में मारपीट हुई। इसकी प्रमुख वजह जूनियर छात्र विवेक की सीनियर स्टूडेंट अजीत सिंह के साथियों की तरफ से ली जा रही रैंगिंर और उसी दौरान की गई पिटाई थी। विवेक का आरोप है कि अजीत सिंह ने सबसे पहले अपने पास बुलाया और हमारे बारे में पुछताछ करने लगे। ऐसे में कुछ प्रश्नों के उत्तर न देने पर अजीत के साथियों ने मारपीट शुरू कर दी। छात्र ने यह भी बताया कि इसकी शिकायत प्रॉक्टर निशी पाण्डेय से की गई है। ऐसे में प्रॉक्टोरियल बोर्ड ने पीडि़त छात्र की शिकायत को गंभीरता से लेकर छात्र नेता अजीत सिंह को और उनके साथियों को नोटिस भेज दिया है। वहीं प्रॉक्टर निशी पाण्डेय का कहना है कि छात्रों की रैगिग के मामले में किसी को भी बख्शा नहीं जायेगा और ऐसे छात्रों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।

Pin It