एलयू में शुरू हुआ आरक्षण का खेल

  • आरक्षण के आधार पर मिलेगा हॉस्टल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में वर्षों पुरानी परम्परा को तोड़कर नई परम्परा शुरू की जा रही है। इस बार छात्रों को हॉस्टल आरक्षण के आधार पर दिया जाएगा। विवि प्रशासन ने पहले से इस बात की कोई अधिकारिक घोषणा नहीं की थी। वहीं विवि के इस नियम से छात्र व छात्र संगठनों में काफी रोष है।
विश्वविद्यालय के चीफ प्रोवोस्ट प्रो. एसपी त्रिवेदी का कहना है कि विवि प्रशासन ने आरक्षण व्यवस्था के साथ स्नातक के छात्रों को कोर्स के आधार पर हॉस्टल अलॉट करने का मन बना लिया है। इस व्यवस्था के तहत बीए, बीएससी और बीकॉम के तीनों वर्षों के छात्र एक साथ एक ही हॉस्टल में रहेंगे। एलयू प्रशासन का कहना है कि पिछले सत्र में हॉस्टलों में सबसे ज्यादा विवाद के मामले सामने आए थे। ऐसे में यहां का माहौल सुधारने के लिए यह फैसला लिया गया है, लेकिन सूत्रों की मानें तो विवि का माहौल सुधारने का यह फैसला आने वाले समय में गले की हड्डी बनने वाला है। सीनियर व जूनियर के एक साथ रहने से रैगिंग की समस्या विवि प्रशासन को झेलनी पड़ेगी।
अभिभावकों व छात्रों में आक्रोश
हॉस्टल का अलॉटमेंट आरक्षण के हिसाब से होने की जानकारी मिलते ही अभिभावकों ने विरोध शुरू कर दिया। अभिभावकों का आरोप था कि हॉस्टल के ब्रॉशर समेत वेबसाइट और एडमिशन के समय आरक्षण जैसी कोई बात नहीं बताई गई थी।
उपद्रव की कोशिश
इस समय हॉस्टल हो या पीजी में प्रवेश व माइग्रेशन की फीस जमा करने की प्रक्रिया चल रही है। काउंटर पर भीड़ देख कुछ उपद्रवियों ने सोमवार को फिर से कैशियर ऑफिस में घुसने की कोशिश की। मौके पर पहुंची प्रॉक्टोरियल टीम की जानकारी मिलते ही उपद्रवी भाग निकले। दोबारा इस प्रकार की स्थिति न पैदा हो, इसलिए कैशियर ऑफिस के बाहर सुरक्षा गार्ड व प्रॉक्टोरियल टीम तैनात रही।

Pin It