एलयू में क्लासरूम तक शिक्षकों को ई-रिक्शा से पहुंचाने की तैयारी

एलयूू में शिक्षक नहीं चलेंगे पैदल

4पीCaptureएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में छात्र तो छात्र शिक्षकों के नखरें भी कम नहीं है। शिक्षकों की कमी के कारण विवि प्रशासन ने रिटायर शिक्षकों को गेस्ट फेकेल्टी के रुप में पढ़ाने की योजना शुरू की गई थी। जिसके पीछे वजह यह है कि छात्रों का समय न बर्बाद हो लेकिन शिक्षक इस बात से नाराज हैं कि उन्हें विभाग तक गाड़ी नहीं ले जाने दिया जा रहा है। छात्रों की शिकायत पर प्रॉक्टर निशी पाण्डे ने इन शिक्षकों के लिए ई-रिक्शा शुरु कराने की योजना तैयार की है।
कभी छात्रों के हंगामे तो कभी शिक्षकों की गैर जिम्मेदार रवैये की वजह से विवि हमेशा सुर्खियों में रहता है। इधर छात्रों का प्रतिदिन होने वाला हंगामा थमा तो शिक्षकों का एक नया बखेड़ा सामने आ गया। रिटायर शिक्षकों को पढ़ाने के लिए कहा है। कुछ रिटायर शिक्षकों के उपर कई विषयों को पढ़ाने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। जिम्मेदारी उठाना तो दूर यह शिक्षक बीस दिन से कक्षा में नहीं गए हैं। वजह पूछने पर शिक्षकों ने कहा कि हम अपनी गाड़ी विभाग तक लेकर जाना चाहते हैं लेकिन हमें गाडिय़ां विभाग तक नहीं ले जाने दी जा रही हैं। विभाग काफी दूरी पर हैं जिसकी वजह से कक्षा में पहुंचने में समय नष्टï हो रहा है। वहीं कक्षा शुरु न होने पर छात्रों ने प्रॉक्टर निशी पाण्डेय से इसकी शिकायत की है। मामले की जानकारी के बाद प्रॉक्टर ने कहा कि गाड़ी विभाग तक ले जाना नियम के विरुद्घ है। जल्द ही शिक्षकों के लिए ई-रिक्शा शुरू कराया जा सकता है। साथ में यह भी कहा कि शिक्षकों एक निर्धारित समय और जगह बताएं जिससे रिक्शा उन्हें गेट से विभाग तक पहुंचा सके। कुलपति से बात करने के बाद जल्द ही इसे शुरु करा दिया जाएगा। वहीं छात्रों का कहना है कि इतने समय से कक्षाएं इसलिए नहीं चल पा रहीं हैं क्योंकि शिक्षकों को अपनी गाड़ी विभाग तक लेकर जाने की अनुमति नहीं मिल रही है। पता नहीं कब कक्षाएं शुरु होंगी।

Pin It