एलयू के मुन्ना भाइयों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन ने एक बार फिर यह योजना तैयार कराई गई है कि इस बार किसी भी विवादित छात्र को छात्रावास में नहीं रहने दिया जाएगा। यदि किसी छात्र की शिकायत एक से अधिक बार प्रॉक्टर ऑफिस को मिलेगी तो उसे विवि से निष्कासित कर दिया जाएगा। यह प्रपोजल तैयार कर प्रॉक्टर मनोज दीक्षित ने कुलपति और कुलानुशासक को सौंपा है।
विश्वविद्यालय के छात्रावास में अवैध रूप से रह रहे छात्र आए दिन कुछ न कुछ बात को लेकर बवाल करते रहते हैं। यही नहीं इनकी ऐसी हरकातों से विश्वविद्यालय की सम्पत्ति को भी नुकसान झेलना पड़ता है। ऐसे छात्रों ने हास्टल के वार्डन तक की नाक में दम कर रखा है। यह छात्र इतने दबंग हैं की इन पर किसी प्रकार की भी कार्रवाई हो उससे इनकी सेहत पर कोई फर्क नही पड़ता है। विश्वविद्यालय के अधिकतर छात्रावासों में इस प्रकार के विवादित छात्र बड़े आराम से रह रहे हैं। हर बार इन्हें नोटिस व चेतावनी दी जाती है लेकिन वह बेअसर है। यही नहीं इन दबंगों की वजह से पुलिस भी हास्टलों में आने लगी है।
विवि के आस-पास यदि कोई भी घटना होती है तो पुलिस आधी रात को छात्रावासों में घुसकर यहां के छात्रों को पूछताछ के लिए उठा ले जाती है जिससे विवि की साख पर सवालिया निशान लगता है। छह से सात माह पहले कुछ छात्रों को निष्कासित किया गया था लेकिन वह अब तक छात्रावासों में रह रहे हैं लेकिन इस बार प्रॉक्टर मनोज दीक्षित ने ऐसे छात्रों को छात्रावास देने से मना किया है जिनके खिलाफ कोई भी रिपोर्ट दर्ज होगी। बीते वर्ष छात्रों की उग्रता को देखते हुए इस बार कड़ाई से फैसला लेने की बात कही गई है।
केस-1
एटीएम लूट कांड के बाद आधी रात को पुलिस हबीबुल्लाह छात्रावास के दो छात्रों को शक की बिना पर पूछताछ के लिए ले गई थी। दो दिन तक पुलिस इन छात्रों को कस्टडी में रख कर पूछताछ करती रही। साथ ही छात्रों को प्रताडि़त करने की भी शिकायत थी।
केस-2
कुछ माह पहले छात्रावास में दो छात्रों ने मार पिटाई कर एक दूसरे को गम्भीर रूप से घायल कर दिया था जिसके बाद विवि प्रशासन ने दोनों छात्रों को ट्रामा सेंटर में भरती कराया था।
केस-3
परीक्षा के समय देर रात छात्रावास के कुछ छात्र क्लास रूम में घुस कर दीवारों पर उत्तर लिखकर नकल की तैयारी कर रहे थे, जब ड्यूटी कर रहे गार्ड ने इन्हें रोकने की कोशिश की तो छात्रों ने एटीएम का शीशा तोड़ कर विश्वविद्यालय की सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाया।

Pin It