एलयू के प्रॉक्टोरियल विभाग ने हटवाया अवैध कब्जा

लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रॉक्टोरियल बोर्ड के सदस्यों ने बलरामपुर छात्रावास पर लगभग पचास वर्षो से अवैध कब्जे को हटाया। पहले यह जगह परिसर में कार्यरत कर्मचारियों को रहने के लिए दिया गया था। कर्मचारियों के सेवा समाप्त होने के बाद उनकी जगह कई ऐसे लोगों ने परिसर में कब्जा कर रखा था। इंटरनेशनल स्टूडेंट की सुरक्षा में भी बाधा उत्पन्न कर रहा था। 7 अगस्त को प्रॉक्टोरियल बोर्ड की टीम ने अवैध कब्जे को हटाया।
50 वर्षो से बलरामपुर हास्टल में अवैध कब्जा करने वालों ने कोर्ट में केस कर मामले को फसाएं रखा था। विवि प्रशासन के केस जीतने के बाद भी यह लोग परिसर से हटने का नाम नही ले रहे थे। इस सबंधं में कई बार नोटिस भी जारी की गई लेकिन उसके बाद भी यह लोग बेखौफवहां रह रहे थे। विवि प्रशासन ने कई बार खाली करने के लिए कहा पर इन लोगों ने एक नहीं सुनी। हद तो तब हो गई जब इन्होंने उसे खाली करने के बजाए कोर्ट में केस कर दिया था। विवि प्रशासन के बहुत समझाने के बाद भी जब यह लोग यहां से हटने के लिए तैयार नही हुए तो प्रॉक्टर मनोज दीक्षित, प्रोफेसर निशी पाण्डेय, डा. निरज जैन के साथ उनकी टीम ने जाकर वहां कई दीवार गिराकर अवैध कब्जे हटाने की शुरुआत की। परिसर की सफाई के बाद बाउंडरी करा कर उसमें गेट लगवा दिया गया है।

Pin It