एलयू के छात्र अब शोध के लिए जाएंगे जर्मनी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय अब जर्मनी के मार्टिन लूथर विश्वविद्यालय हैले विटेनबर्ग के साथ मिलकर शोध कार्य को बढ़ावा देगा। अब लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र शोध के लिए जर्मनी जा सकेंगे। इतना ही नहीं दोनों संस्थानों के शिक्षक एक दूसरे के यहां जाकर बतौर गेस्ट लेक्चर देने के साथ शोध भी करेंगे। एक वार्ता के सिलसिले में जर्मनी गए एलयू के कुलपति प्रो. एसबी निमसे ने लूथर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ऊडो स्ट्रेटर के साथ मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग साइन किया है।
इस एमओयू का लाभ शिक्षकों के अलावा शोधार्थियों और अन्य छात्रों को भी मिलेगा। यदि कोई शोधार्थी ऐसा टॉपिक जिसमें वह भारत और जर्मनी का तुलनात्मक अध्ययन करना चाहे तो यह कार्य काफी आसान हो जाएगा। इस नजरिए से देखें तो एलयू के छात्र अ‘छे शोध कर सकेंगे। इसके अलावा विभिन्न कोर्स के छात्रों को भी विशेष कार्यक्रम चलाकर एक-दूसरे संस्थान में भेजा जाएगा। दोनों संस्थान मिलकर लेक्चर कॉन्फ्रेंस, वर्कशॉप, सिम्पोजिया सेमिनार सहित अन्य शैक्षिक गतिविधियों को बढ़ावा देंगे। लखनऊ विश्वविद्यालय जर्मनी के इस विवि में उपयोग की जा रही नवीन तकनीक को भी अपने यहां लाने का प्रयास करेगा। इसके अलावा उसकी तर्ज पर अपने यहां की लैबोरेटरी विकसित की जाएंगी। लविवि के प्रवक्ता प्रो. एन.के पांडेय ने बताया कि मार्टिन लूथर यूनिवर्सिटी में थियोलॉजी, लॉ एंड इकोनॉमिक्स मेडिसिन, फिलॉसफी नेचुरल साइंसेज और इंजीनियरिंग साइंसेज की फैकल्टी हैं। यह संस्थान विश्व भर में अपनी पढ़ाई के साथ ही शोध के लिए जाना जाता है।

Pin It