एलयू के कुलपति व प्रवक्ता पर एबीवीपी ने लगाए भ्रष्टïाचार के आरोप

  • प्रवक्ता पर भर्ती में मनमानी करने का लगाया आरोप

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति व प्रवक्ता पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने धांधली का आरोप लगाते हुए सोमवार को प्रदर्शन किया। एबीवीपी के संगठन मंत्री सत्यभान भदौरिया ने कहा कि वर्ष 2015 में भौतिक विज्ञान विभाग में इलेक्ट्रोनिक्स शाखा के पद पर संविदा हेतु चार पदों पर भर्ती निकाली गई थी, जिसमे एक सीट आरक्षित होनी थी, लेकिन ऐसा नही हुआ।
विश्वविद्यालय प्रवक्ता एन.के पांडेय ने फिर 2016 के जून माह में तीन पदों पर भर्ती निकाली, जिसमे एक सीट आरक्षित होनी थी लेकिन उसमें भी ऐसा नही हुआ, साथ ही साक्षात्कार हेतु जितने फॉर्म आये उनकी एन.के पांडेय ने एक कमेटी कराई। 16 जुलाई को साक्षात्कार हेतु कमेटी की बैठक को उन्होंने लिखकर दिया की मैं नहीं आ सकता, जिसके बाद 18 जुलाई को एनके पांडेय ने समन्यवक इलेक्ट्रोनिक्स में आपने आप स्क्रुटनी कर ली। इसके बाद इस प्रकरण की शिकायत राज्यपाल से विवेक वर्मा ने की और कहा कि ओबीसी कोटे में नियमानुसार मुझे साक्षात्कार हेतु बुलाया जाना चाहिए था परन्तु ऐसा नही हुआ। पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष ने एलयू के कुलसचिव से फोन करके वार्ता की जिसके बाद एन.के पांडेय ने एक पद अरक्षित कर दिया, जिसके तहत 2 लोगो का साक्षात्कार सोमवार को होना तय हुआ। सोमवार को भी केवल एक का ही साक्षात्कार लिया गया जबकि दूसरे को आगे की 23 तारीख को आने को कहा गया है। भदौरिया ने बताया कि भर्तियों को लेकर भ्रष्टïाचार किया गया है। वहीं कुलपति ने भी कमेटी में ओरिएंटल पर्शियन विभाग में एक कैंडीडेट पर आपत्ति लगी होने के बाद भी उसका लिफाफा खोला। साथ ही उसे क्लिनचिट भी दे दी। एबीवीपी इसको लेकर आंदोलन करेगा। इस संबंध में विवि प्रवक्ता ने बताया कि सभी पदों के सापेक्ष निकाले गए विज्ञापनों में आरक्षण को नियमों के आधार पर स्थान दिया गया है। रहा सवाल साक्षात्कार के लिए बुलाए जाने का तो यह आदेश वीसी की ओर से दिया गया था।

Pin It