एलडीए को महंगे फ्लैटों के लिए ढूंढे नहीं मिल रहे आवंटी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। एलडीए को खाली पड़े ढाई हजार फ्लैटों की बिक्री के लिए आवंटी ढूंढे नहीं मिल रहे हैं। इसको लेकर एलडीए वीसी भी चिंतित हैं। उन्होंने फ्लैटों की री कास्टिंग करने व फ्लैटों की कीमतें कहीं ज्यादा तो नहीं यह देखने का फैसला किया है। वहीं खाली पड़े प्लाटों की सूची बनाने के निर्देश एलडीए उपाध्यक्ष अनूप कुमार द्वारा दिए गए हैं।
एलडीए ने राजधानी में अलग-अलग योजनाओं के तहत करीब तीन हजार से अधिक फ्लैट नौ लाख रुपये से लेकर एक करोड़ तक की कीमत के बनाएं। इनमें चालीस लाख तक के फ्लैट तो डिमांड में रहे और वह बिक भी गए। किन्तु वर्तमान में ढाई हजार फ्लैट अभी भी खाली पड़े हैं। एलडीए इन फ्लैटों को बेचने के लिए कई बार पंजीकरण की तिथि बढ़ा चुका है, लेकिन इसके बाद भी एक दर्जन से अधिक आवेदन नहीं आए। ऐसी परिस्थितियों में लखनऊ विकास प्राधिकरण अपने फ्लैटों की लाटरी नहीं करा पा रहा है। यही नहीं एलडीए के दो हजार करोड़ रुपये इन फ्लैटों के निर्माण में लगे थे। बड़ी रकम फंसी होने से एलडीए के अफसर चिंतित हैं। एलडीए उपाध्यक्ष अनूप कुमार ने संबंधित विभाग देख रहे अफसरों को निर्देश दिए हैं कि वह फ्लैटों की कीमतों का पुनरीक्षण करे। अगर जरूरत पड़े तो रीकास्टिंग करके कीमतों को स्थिर या फिर कुछ कम करने पर भी विचार किया जाए। उन्होंने गोमती नगर, बसंत कुंज, कानपुर रोड सहित कई योजनाओं में वाणिज्यक व आवासीय प्लाटों की सूची उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए हैं।

Pin It