एनेक्सी की वीवीआईपी लिफ्ट में एक बार फिर निकला बिज्जू

  • मुख्यमंत्री कार्यालय की सुरक्षा में चूक का सिलसिला जारी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Capture3लखनऊ। आज सुबह एनेक्सी की वीवीआईपी लिफ्ट के गैप में बिज्जू फंस गया। इसकी सूचना मिलते ही एनेक्सी में हडक़ंप मच गया। कर्मचारी कार्यालय से बाहर निकल आये। इसके साथ ही हजरतगंज पुुलिस मौके पर पहुंच गई। बिज्जू को पकडक़र वन विभाग के सुपुर्द कर दिया गया।
सीएम अखिलेश की सुरक्षा में हो रही चूक का सिलसिला जारी है। एनेक्सी में सुरक्षा की पोल भी खुल गई है। मुख्यमंत्री कार्यालय वाले एनेक्सी भवन में आज सुबह अचानक उस समय हडक़ंप मच गया जब एक जंगली बिज्जू कार्यालय में घुस आया। एनेक्सी के पांचवें फ्लोर पर बिज्जू के फंसने की सूचना से कर्मचारियों में हडक़ंप मच गया। हर व्यक्ति अपनी जान बचाकर भागता नजर आया। सीएम ऑफिस में मौजूद सुरक्षा कर्मियों के साथ मौजूद बम डिस्पोजल स्क्वाड (बीडीएस) की टीम भी मौके पर पहुंच गई। आखिरकार वन विभाग की टीम पहुंची और उसने बिज्जू को धर दबोचा और चिडिय़ाघर भेजने की कवायद शुरू कर दी।
पहले भी हो चुकी है चूक
मुख्यमंत्री और उनके कार्यालय की सुरक्षा में लापरवाही की घटनाएं आम होती जा रही हैं। इससे पहले भी शनिवार के ही दिन 14 मई 2016 को एनेक्सी में बिज्जू निकला था। उस समय भी करीब आधे घंटे की मशक्कत के बाद बिज्जू को पकडऩे में कामयाबी मिली। गौरतलब हो कि मुख्यमंत्री और उनके कार्यालय की सुरक्षा में पहले भी लापरवाही का मामला सामने आ चुका है। अगस्त 2014 में राजधानी के हाईसिक्योरिटी जोन सीएम सचिवालय स्थित गेट नंबर दो से आरपी वर्मा नाम का एक फर्जी राज्यमंत्री घुसपैठ करने में कामयाब हो गया था। वह करीब डेढ़ घंटे तक सचिवालय में बेखौफ होकर घूमता रहा लेकिन किसी को कानो-कान खबर तक नहीं हुई। आखिरकार सचिवालय से वापस लौटते समय पूछताछ में मामला संदिग्ध होने पर फर्जी राज्य मंत्री को पकड़ लिया गया। इसी प्रकार कुछ महीने पहले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनकी पत्नी डिम्पल यादव सचिवालय की लिफ्ट अचानक से बंद होने की वजह से लिफ्ट में फंस गये थे। करीब 25 मिनट बाद दोनों लोगों को सही सलामत लिफ्ट से बाहर निकाला गया।

Pin It