एडमिशन मिलने से बच्चों के चेहरे पर बिखरी मुस्कान

Capture 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। कई महीनों की कानूनी लड़ाई व कड़ी मशक्कत के बाद आखिरकार 13 गरीब बच्चों को प्रवेश सीएमएस में मिल ही गया। मुहिम में बच्चों के घरवालों के साथ-साथ समाजिक संगठनों ने बच्चों को प्रवेश दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। प्रवेश के बाद बच्चों ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, डीएम व बीएसए को अपने अंदाज में धन्यवाद दिया। दूसरी ओर बच्चों के घरवालों का कहना है कि मन में कई आशंका बनी हुई है।
सामाजिक संस्था भारत अभ्युदय फाउंडेशन की समीना बानों और जावेद बच्चों को प्रवेश दिलाने के लिए सीएमएस गये। उन्होंने अपने साथ एक ही अभिभावक को साथ लिया था। कई बार लौटा देने के बाद इस बार भी संदेह के कारण और किसी को साथ नही लिया। हर बार सीएमएस ने न्यायालय की अवमानना कर बच्चों को प्रवेश देने से मना कर दिया था। बच्चों की मां संध्या का कहना है कि बच्चों को अच्छे स्कूल में पढ़ाना हम लोगों के लिए किसी सपने के समान ही था। मैं बहुत खुश हूं की मेरे बच्चे को अच्छे स्कूल में पढ़ाने का सपना सच होने जा रहा है, लेकिन अब चिंता सिर्फ इसी बात की है कि स्कूल में बच्चों के साथ भेद-भाव या गलत व्यवहार न किया जाए। बच्चों व अभिभावकों को हर प्रकार से उनकी समस्याओं को दूर करने में संस्थाएं लगी हुई है।
इस संबंध में समीना बानों का कहना है कि हम लोग पूरी तरह इस बात का ख्याल रख रहे है कि बच्चों को कोई समस्या न हो। समय-समय पर बच्चों व उनके घरवालों की काउंसिलिंग व ट्रेनिंग का इन्तजाम किया जा रहा है। वहीं बच्चों के लिए अन्य जरुरी चीजों की व्यवस्था करने के लिए कई संगठन से बात चीत की जा रहे हैं।

Pin It