उफ्फ… गोमती नदी को तो बख्श दीजिये गायत्री प्रजापति जी

रात भर दर्जनों जेसीबी लगाकर गोमती के किनारों से हो रहा है अवैध खनन

सीएम चाहते हैं कि गोमती के तट बनें बेहद सुंदर और लुभावने
Y1सिंचाई महकमा गोमती के तटों को सुधारने के लिए चला रहा बड़ी-बड़ी योजनाएं
खनन महकमा फेर रहा है इन सपनों पर पानी और गोमती के तटों से कर रहा है अवैध खनन
रात भर दर्जनों ट्रकों से हो रहा है खनन का अवैध कारोबार

 संजय शर्मा
लखनऊ। यह बात सोचने में भी शर्मिंदगी लगती है कि प्रदेश की राजधानी लखनऊ जहां सत्ता चलाने वाले सभी लोग बैठते हैं वहां डंके की चोट पर गोमती के किनारे लगातार अवैध खनन हो रहा है। इससे भी ज्यादा हैरानी की बात यह है कि यह खनन किसी दूर दराज के ग्रामीण इलाकों में नहीं हो रहा बल्कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट जनेश्वर मिश्र पार्क के पास गोमती नदी के किनारों से किया जा रहा है। खनन माफिया महीनों से गोमती के किनारों से दर्जनों ट्रक मिट्टïी खोद रहे हैं और किसी की इतनी हिम्मत नहीं हो रही है कि वह इस खनन को रोक सके। रात में इन ट्रकों की संख्या दुगनी हो जाती है। स्थानीय लोगों ने बताया कि उन्होंने इसकी शिकायत कई बार की मगर उनसे कह दिया गया कि यह लोग खनन मंत्री गायत्री प्रजापति के आदमी हैं लिहाजा हम कुछ नहीं कर सकते।
गोमती नदी को साफ करने के लिए सीएम अखिलेश यादव लगातार कई योजनाए शुरू कर रहे हैं। सिंचाई मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने गोमती के तटों को सुन्दर बनाने के लिए सैकड़ों करोड़ रुपया आवंटित किया है और उस पर काम भी शुरू हो गया है। मगर खनन विभाग को इससे कोई मतलब नहीं है।
गोमती नगर विस्तार में गोमती नदी के किनारे लगातार खनन कर रहे यह लोग सभी को दिखते हैं। रात में जेसीबी और ट्रकों के काफिले पूरे इलाके में दहशत का माहौल पैदा करते हैं। इन ट्रकों के साथ हथियारबंद लोग भी रहते हैं, जिससे किसी प्रकार का विरोध करने की कोई हिम्मत नहीं करता। बताया जाता है कि रोज एक करोड़ से अधिक की मिट्टïी और बालू का खनन यहां से किया जा रहा है और यह सिलसिला कई महीनों से चल रहा है। मतलब साफ है कि यहां 100 करोड़ से अधिक का खनन किया जा रहा है।

प्रदेश भर में मंत्री गायत्री प्रजापति के इशारे पर हजारों करोड़ का अवैध खनन किया गया है। पूरी सरकार गोमती साफ करने की बात करती है। मगर लखनऊ में जिस तरह गोमती के किनारों से खनन हो रहा है वह हकीकत बताने के लिए काफी है।
मेरे संज्ञान में आया है कि इस अवैध खनन के लिए लाखों रुपया अफसरों को दिया जा रहा है।
-लक्ष्मीकांत वाजपेयी, प्रदेश अध्यक्ष, भाजपा

मेरे संज्ञान में जैसे ही यह मामला आया मैंने प्रशासनिक अधिकारियों की टीम मौके पर भेज दी है। वह खनन की मात्रा का निरीक्षण करके मुझे आज ही रिपोर्ट देंगे। अगर वहां पर अवैध खनन हुआ है तो खनन करने वालों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी।
राजशेखर
जिलाधिकारी, लखनऊ

अपनी तो बचा ली मगर सरकार की कटा दी नाक
नाक पर उंगली रखे खनन मंत्री गायत्री प्रजापति के कारनामों से सरकार की नाक कई बार कटी है। गायत्री के कारनामे न सिर्फ प्रदेश में बल्कि पूरे देश में गूंजे हैं। गरीबी की रेखा से जीवन यापन करने वाले गायत्री प्रजापति के बारे में कहा जाता है कि इस समय वह हजारों करोड़ के मालिक हैं। अवैध खनन की शिकायतें पूरे प्रदेश से आती रही हैं। मगर अब तो खुले आम गोमती नगर जैसे पॉश इलाके से खनन करवाकर उन्होंने साबित कर दिया कि उनके रसूख के आगे सब बौने हैं।

 

Pin It