उत्तर प्रदेश नंबर वन

अब तक एम्बुलेंसों में हो चुकी हैं 16 हजार से ज्यादा डिलीवरी

Captureमुजाहिद जैदी
लखनऊ। उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य है जहां तकरीबन तीन हजार एंबुलेंस इन दिनों चलायी जा रही है। 108 एंबुलेंस के साथ ही बीते साल सरकार ने 102 एंबुलेंस सेवा की भी शुरूआत की थी। ये खास तौर से महिलाओं और बच्चों के लिए चलाई गई है। वहीं आंकडों के मुताबिक उत्तर प्रदेश में अब तक 16000 से ज्यादा डिलीवरी एंबुलेंस के भीतर ही हुई हैं। इसका सीधा मतलब यह है कि आंकड़ों के हिसाब से उत्तर प्रदेश देश का एक मात्र ऐसा प्रदेश है जहां ऐसा मुमकिन हुआ है

उत्तर प्रदेश सरकार हमेशा बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं का दावा करती रहती है। सरकार ने इस बार के बजट में स्वास्थ्य के लिए 7340 करोड़ रुपये भी एलॉट किये हैं। यूपी में देशभर में सबसे ज्यादा एंबुलेंस चलाई जा रही है, जिनमें 108 इमरजेंसी सेवा की 988 एंबुलेंस और 102 सेवा की 1964 एंबुलेंस शामिल हैं। 102 एंबुलेंस को बीते साल 2014 में शुरू किया गया।

ये खासतौर से महिलाओं और बच्चों के लिए है। उत्तर प्रदेश में इन एंबुलेंस के संचालन से जुड़ी कंपनी जीवीके ईएमआर के सीओओ संजय खोसला का कहना है कि देश में यूपी एक ऐसा प्रदेश है जहां 16000 से ज्यादा डिलीवरी इन एंबुलेंस के भीतर ही हुई हैं। इनमें 108 एंबुलेंस में 15127 डिलीवरी तो वहीं 102 एंबुलेंस में तकरीबन 1700 डिलीवरी कराई गई हैं। कंपनी के अधिकारियों का कहना है कि इन एंबुलेंस को इस तरह से इक्युप्ड किया गया है कि किसी भी गंभीर स्थिति में इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन डिलीवरी करा सके। इसके लिए बकायदा उन्हें दो महीने की खास ट्रेनिंग भी हैदराबाद में दी जाती हैं।

क्या हैं आंकड़े
पूरे देश के आंकड़ों पर अगर नजर डाले तो आंध्र प्रदेश में तकरीबन 465 एंबुलेंस, तेलंगाना में 337, गुजरात में तकरीबन 650, तमिलनाडु में 700, कर्नाटक में तकरीबन 700, राजस्थान में 730 और मध्य प्रदेश में 600 एंबुलेंस चलाई जा रही हैं इनमें सबसे ज्यादा एंबुलेंस की संख्या यूपी की है।

उत्तर प्रदेश के जिलों में एंबुलेंस की संख्या का निर्धारण जनसंख्या और वहां की भौगोलिक स्थिति के हिसाब से होता हैं। इनमें आजमगढ़ में तकरीबन 71, मेरठ में 49, इलाहाबाद में 70 गोरखपुर में 67 वाराणसी में 44, लखनऊ में 41 रामपुर में 26 महोबा में 16 एंबुलेंस मौजूद हैं। यूपी में तकरीबन 75000 की जनसंख्या पर एक एंबुलेंस मौजूद है वहीं देश में ये आंकड़ा एक लाख की आबादी पर एक हैं।
संजय खोसला दावा कर रहे हैं कि जल्द ही यूपी में एडवांस लाइफ सपोर्ट सिस्टम की एंबुलेंस भी मुहैया होगी जिनमें वेंटिलेटर तक की सुविधा मौजूद होगी।

जाहिर है की स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर हमेशा सवालों के घेरे में रहने वाली सरकार के लिए ये आंकड़ें जरूर कुछ राहत देने वाले हो सकते हैं।

Pin It