उत्तर प्रदेश की राजधानी बनी अपराधियों की पनाहगाह

  • ताबड़तोड़ हो रही आपराधिक घटनाओं ने शहर के माहौल को किया खौफज़दा 
  • एसएसपी के सामने बुलंद हैं अपराधियों के हौसले

आमिर अब्बास
1लखनऊ। राजधानी में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। कानून व्यस्था बदहाल हो गई है। एक के बाद एक दुस्साहसिक घटनाओं को अंजाम देने में अपराधी कामयाब हो रहे हैं। अपराधी पुलिस को खुलेआम चुनौती दे रहे हैं। शहर में हत्या, लूट, रेप और चेन स्नैचिंग जैसी खौफनाक घटनाओं के आंकड़ों में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। इससे शहर में पुलिस की सतर्कता और कानून व्यवस्था की पोल खुल रही है। वहीं डीजीपी जावीद अहमद के सख्त आदेश के बावजूद भी आलाधिकारी अपराध रोकने की दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठा पा रहे हैं। अपराधी पुलिस से दो कदम आगे चल रहे हैं, जिससे पुलिस की मायूसी और बेबसी के चेहरे से पर्दा उठ चुका है।
लखनऊ में आपराधिक आंकड़ों को नियंत्रित करने और क्राइम करने वालों को सीख दिलाने के लिए कई कप्तान बदले गये। लेकिन शहर में हो रही ताबड़तोड़ आपराधिक वारदातों पर अंकुश लगाने में कोई भी कप्तान कामयाब नहीं हो पाया। ऐसा ही कुछ एसएसपी मंजिल सैनी के कार्यकाल में भी देखने को मिल रहा है, जिसमें न तो अपराधों में कमी आयी और न ही अपराधियों के हौसले पस्त होते दिख रहे हैं। लेडी सिंघम के नाम से मशहूर मंजिल सैनी ने कप्तान का चार्ज लिया था, तो लोगों को अपराधों पर नियंत्रण लगने की पूरी उम्मीद थी। लेकिन मंजिल सैनी लोगों की उम्मीदों पर खरी नहीं उतर सकीं। यूं कहें कि राजधानी में आपराधिक घटनाओं में और अधिक इजाफा हो गया है। अपराधी बेखौफ होकर शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में तांडव मचा रहे हैं। जिसमे अपराधियों ने रेप, हत्या, लूट और चेन स्नैचिंग की खौफनाक घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। समाज का हर शख्त खासकर महिलाएं खुद को असुरक्षित महसूस करने लगी हैं। आंकड़ों पर गौर करें तो केवल 2016 में अब तक होने वाली हत्या, लूट और डकैती की वारदातों से मॉडर्न पुलिसिंग और कानून व्यवस्था की हकीकत सामने आ जायेगी। जिले में होने वाली कई प्रमुख घटनाओं का खुलासा अब तक नहीं हुआ है।

वर्ष 2016 के शुरू में ही अपराधियों ने राजधानी की पुलिस को खुली चुनौती दी है। इसमें बहुत ही घटनाएं ऐसी हैं, जिनका खुलासा नहीं हुआ है।

=05जनवरी- गोमती नगर में आईएएस अफसर के घर डकैती।
=13 जनवरी- मज़दूर की हत्या।
=18 जनवरी- बीबीए के छात्र के गोली मारी गयी।
=27 जनवरी- चौक में छात्रा का अपरहण करने का प्रयास।
=04 फरवरी- जानकीपुरम थाना क्षेत्र में वृद्ध महिला की हत्या।
=07 फरवरी- काकोरी में खुशीराम(52) की गोली मारकर हत्या।
=09 फरवरी- खुशी राम (30) की गाला दबाकर हत्या।
=10 फरवरी- नाका थाना क्षेत्र में अधिवक्ता की हत्या।
=10 फरवरी- जानकीपुरम आशियाना थाना क्षेत्र निवासी छात्रा उन्नति का अपहरण।
=13 फरवरी- मडिय़ांव और बीकेटी में आधे शव मिले।
=15 फरवरी- हज़रातगंज थाना क्षेत्र के पार्क रोड जंगल में छात्रा का रेप, हत्या कर शव जंगल में फेंका।
=16 फरवरी- नाका में लूट और हत्या।
=17 फरवरी- पारा में धीरेन्द्र कुमार की हत्या कर फेका गया शव।
=21 फरवरी- मोहनलालगंज आशियाना थाना क्षेत्र में युवक हत्या।
=23 फरवरी- गौतमपल्ली थाना क्षेत्र मेेंं युवक की हत्या कर फेंका गया शव।
=25 फरवरी- आशियाना में युवती की हत्या कर फेका गया शव।
=26 फरवरी- ठाकुरगंज आशियाना थाना क्षेत्र मेंं संजीव की हत्या।
=26 फरवरी- अलीगंज में वृद्ध महिला की हत्या।
=26 फरवरी- विभूतिखंड में लूट।
=27 फरवरी- तालकटोरा आशियाना थाना क्षेत्र मेेंं अनुज पाण्डेय की गोली मारकर हत्या।
=28 फरवरी- बंथरा में संजय की हत्या।
=29 फरवरी- अलीगंज थाना क्षेत्र मेेंं शिवम द्विवेदी को गोली मारी गयी।
=05 मार्च- रितेश अवस्थी (32) की गोमती नगर में दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या।
=05 मार्च- विकास नगर थाना क्षेत्र में संजय मिश्रा और पुष्पजीत सिंह की हत्या।
=10 मार्च- पारा थाना क्षेत्र में राजेश सिंह (45) की गोली मारकर हत्या।
=10 मार्च- हज़रतगंज में डीआरएम ऑफिस में आशीष पाण्डेय की गोली मारकर हत्या।
=10 मार्च- पारा थाना क्षेत्र के शीतलपुरम निवासी राजेश सिंह (45) की गोली मारकर हत्या।
=10 मार्च- सआदतगंज थाना क्षेत्र में राम अवतार गुप्ता की हत्या।
=31 मार्च- आशियाना थाना क्षेत्र में महेश कुमार की हत्या
=12 मई- आशियाना थाना क्षेत्र में गुरप्रीत सिंह (36) की अपहरण के बाद हत्या।
=12 मई- बाजारखाला में चंद्र किशोर (45) की निर्मम हत्या।
=12 मई- बाजारखाला सामाजिक कार्यकर्ता ज़ैद शकील की गोली मारकर हत्या।
=21 जून- आशियाना थाना क्षेत्र में रवि कुमार की हत्या कर शव पेड़ में लटकाया गया।
=24 जून- मॉल थाना क्षेत्र के टिकरीकला में अनामिका को चाकुओं से गोद दिया गया।
=25 जुलाई- हसनगंज थाना क्षेत्र में संतोष शर्मा (40)की लोहे का रॉड मारकर हत्या।
=26 जुलाई- चौक थाना क्षेत्र में सलमान (21) पुत्र इश्तियाक की गोली मारकर हत्या।
=08 अगस्त- गोमती नगर थाना क्षेत्र निवासी लोहिया वाहिनी के महासचिव मनीष गिरी की हत्या।
=12 अगस्त- इंदिरानगर थाना क्षेत्र स्थित हमराही ग्राम निवासी पंकज जायसवाल की हत्या।
राजधानी में अभी भी फरार हैं 38 हत्यारोपी

पुलिस महानिरीक्षक लखनऊ जोन ए सतीश गणेश ने बुधवार को लखनऊ, फैजाबाद परिक्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक लखनऊ जोन के सभी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक के साथ जोन सभागार में समीक्षा बैठक की थी । समीक्षा में पाया गया कि लखनऊ में 38 हत्यारों की गिरफ्तारी शेष है। हत्या के मामलों में हत्या के मुकदमे की धारा के अलावा निरोधात्मक कार्रवाई जैसे गुंडा एक्ट , गैंगेस्टर में कोई भी कार्रवाई न करने पर आईजी जोन ने घोर आपत्ति जताई है। उन्होंने जिलों के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षको को स्थिति में तत्काल सुधार करने के निर्देश दिए ।

Pin It