उत्तराखंड के जंगलों में लगी भीषण आग

  • आग बुझाने को एमआई-17 ने भरी उड़ान
  • राज्य के सभी 13 जिलों के जंगलों तक फैल चुकी है आग

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
देहरादून। उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग को आज कई दिन हो गए हैं। अब यह आग राज्य के सभी 13 जिलों के जंगलों तक फैल चुकी है। आग पर काबू पाने के लिए आर्मी और एयरफोर्स को बुलाया गया है। रविवार सुबह सेना के एमआई 17 हेलिकॉप्टर्स ने पानी गिराने के लिए उड़ान भरी। लेकिन कम विजिबिलटी के चलते उनको लौटना पड़ा। हालांकि बाद में पानी गिराया गया। दरअसल, पूरे इलाके में धुआं है और हवा भी तेज चल रही है। इसकी वजह से एयरफोर्स को ऑपरेशन में दिक्कत हो रही है। यहां एनडीआरएफ को भी तैनात किया गया है। अब तक छह लोगों की मौत हो चुकी है।
गौरतलब है कि उत्तराखंड में गढ़वाल से लेकर कुमाऊं तक धधक रहे जंगलों की आग बुझाने के लिए अब शासन-प्रशासन ने पूरी ताकत झोंक दी है। एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पीआरडी के साथ ही अब वायु सेना की मदद ली जा रही है। जिलाधिकारी चंद्रशेखर भट्ट ने बताया कि राज्य के जंगलों में लगी भीषण आग को देखते हुए शासन ने हेलीकॉप्टर से आग बुझाने का निर्णय लिया है। एमआई-17 से वायु सेना का 11 सदस्यीय दल स्क्वाड्रन लीडर एसके यादव के नेतृत्व में शनिवार करीब चार बजे श्रीनगर के जीवीके हेलीपैड पर पहुंचा। हेलिकॉप्टर में श्रीनगर परियोजना की झील से पानी भरा जाएगा। एसडीएम रजा अब्बास स्थानीय स्तर पर वायु सेना का सहयोग करेंगे।

थम नहीं रही आग

उधर, पौड़ी शहर के समीपवर्ती जंगलों में भडक़ी आग अभी भी थमने का नाम नहीं ले रही है। पौड़ी-खिर्सू मार्ग में गोड़ख्याखाल से आगे कई जगहों पर जंगलों में आग भडक़ी हुई है। बांज के जंगल धू-धू कर जल रहे हैं। सुंगरखाल-सीकू-ज्वाल्पा मोटर मार्ग के नीचे पडऩे वाले निसणी गांव का जंगल भी आग की चपेट में आ चुका है। कोट ब्लॉक में भी कई जगह आग भडक़ी हुई है। आग से चारों तरफ धुंध ही धुंध छाई हुई है। इस वजह से पौड़ी से सामने की पहाडिय़ां बिल्कुल नहीं दिखाई दे रही हैं। पौड़ी जिले में एनडीआरएफ के 36, एसडीआरएफ के 35 और पीआरडी के 70 जवान आग बुझाने में जुटे हैं। इसके अलावा वन विभाग और फायर विभाग की टीमें भी लगी हुई है। अब आग बुझाने के लिए वायु सेना का हेलीकाप्टर भी जिले को उपलब्ध हो गया है, जो प्रभावित क्षेत्रों में जाकर कृत्रिम वर्षा के जरिये आग को बुझाने का प्रयास करेगा।

Pin It