उड़ी का बदला… अपने बहादुर कमांडो ने पाकिस्तान में घुसकर मारे आतंकवादी और पाक सैनिक

  • म्यांमार के बाद पाक में घुसकर सेना ने नेस्तनाबूत किये आतंकियों के ठिकाने
  • दो पाक सैनिकों के मारे जाने से भडक़ा पाक, कहा इसे हमारी कमजोरी न समझें
  • भारतीय सेना की कार्रवाई को सोशल मीडिया पर भारी समर्थन, लोगों ने कहा पाकिस्तान में और घुसकर मारे आतंकियों को

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

captureलखनऊ। उड़ी आतंकी हमले का भारत ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है। भारतीय सेना ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को ठिकाने लगाया। सेना के जवानों ने चार आतंकी शिविरों को ध्वस्त कर दिया और कई आतंकवादियों को मार गिराया। कल चलाए गए इस सर्जिकल स्ट्राइक में पाक सेना के दो सैनिक भी मारे गए। गौरतलब है कि इसके पहले अपने सैनिक मारे जाने के बाद भारतीय सेना ने म्यांमार में घुसकर आतंकवादियों को मार गिराया और उनके कई ठिकानों को नष्टï कर दिया था।

उड़ी आतंकी हमले में 18 जवानों को गवांने और एलओसी पर लगातार युद्ध विराम उल्लंघन की घटनाओं के बाद भारतीय सेना ने कल पाक स्थित आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करने के लिए एलओसी पार की। डॉयरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन रणवीर सिंह ने बताया कि इस सर्जिकल स्ट्राइक में आतंकियों को काफी नुकसान पहुंचा है। उन्होंने कहा कि आतंकवादियों की गतिविधियां काफी बढ़ गई थीं लिहाजा अभियान चलाया गया। उन्होंने कहा कि सेना सीमा पार से हो रही घुसपैठ पर गंभीर है और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक आतंकियों की पक्की सूचना पर की गई। भारतीय सेना के इस हमले ने दुनिया भर में हडक़ंप मचा दिया है। भारत और पाक दोनों परमाणु सम्पन्न देश हैं। दुनिया के सभी राष्ट्रों को इस बात की बहुत चिंता है कि पाक के परमाणु हथियार कहीं आतंकियों के हाथ न लग जाएं। उड़ी में सैनिकों के मारे जाने के बाद मोदी सरकार भारी दबाव में थी। पीएम मोदी के पिछले बयान सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे थे और लोग उनसे सवाल कर रहे थे कि कुर्सी मिलते ही अपनी बात से मोदी क्यों पलट गए।

उड़ी हमले के बाद से ही तैयारी में जुटी थी सेना

उड़ी में 18 सितंबर को करीब आधा दर्जन आतंकियों ने ब्रिगेड हेड क्वार्टर पर हैण्ड ग्रेनेड और एके-47 से हमला बोला था। इस हमले में देश के 18 जवान शहीद हो गये थे। देश के किसी भी आर्मी ब्रिगेड हेडक्वार्टर पर 26 साल में आतंकियों की तरफ से किया गया, यह अब तक का सबसे बड़ा हमला था। आतंकियों ने हमले के लिए सुबह करीब 5 बजे का वक्त चुना था, ताकि सैनिकों को जवाबी कार्रवाई करने का मौका न मिले। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी। उड़ी में हमले के बाद से ही भारतीय सेना के जवान सीमा पार से हो रही घुसपैठ और आतंकियों की हरकतों पर नजर बनाये हुए थे। सेना को आतंकियों के घुसपैठ करने के योजना की पुख्ता जानकारी मिल चुकी थी। आखिरकार उड़ी हमले के 10 दिन बाद भारतीय सेना के जवानों ने पाक सीमा में घुसकर दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब दिया।

अमेरिका ने भी जताई ङ्क्षचता

अमेरिका की सुरक्षा सलाहकार सुसैन राइस ने भारतीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से फोन पर बातचीत की। उन्होंने कहा कि व्हाइट हाउस पाकिस्तान से संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी घोषित किए गए समूहों से निपटने और उनका सफाया करने की दिशा में प्रभावी कार्रवाई करने की अपेक्षा रखता है। पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मुहम्मद समेत अन्य सभी समूहों, व्यक्तियों और उनसे संबद्ध गुटों से निपटने तथा उनका सफाया करने के लिए प्रभावी कार्रवाई करेगा। 

अमेरिका की सुरक्षा सलाहकार सुसैन राइस ने भारतीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से फोन पर बातचीत की। उन्होंने कहा कि व्हाइट हाउस पाकिस्तान से संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी घोषित किए गए समूहों से निपटने और उनका सफाया करने की दिशा में प्रभावी कार्रवाई करने की अपेक्षा रखता है। पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मुहम्मद समेत अन्य सभी समूहों, व्यक्तियों और उनसे संबद्ध गुटों से निपटने तथा उनका सफाया करने के लिए प्रभावी कार्रवाई करेगा।

भारतीय सेना द्वारा पाक स्थित आतंकी शिविरों पर सिर्जिकल स्ट्राइक की खबर के बाद शेयर बाजार में लगातार गिरावट हो रही है। सेंसेक्स 444 अंक गिर गया। हालांकि गुरुवार को भारतीय शेयर बाजार की शुरुआत बढ़त के साथ हुई थी। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 149.72 अंकों के साथ 28,442.53 के स्तर पर और निफ्टी 47.30 अंकों की तेजी के साथ 8791.45 के स्तर पर कारोबार करता दिख रहा था। हमले की खबर के बाद हुई गिरावट से निवेशकों का सैकड़ों करोड़ रुपया डूब गया है।

भडक़े नवाज

पाकिस्तान मीडिया के अनुसार नवाज शरीफ ने कहा हम इस हमले की निंदा करते हैं। हमारी शांति कायम करने की हसरत को कमजोरी न समझा जाए। वहीं इंडियन आर्मी ने इस सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, जम्मू कश्मीर के गवर्नर और सीएम को दे दी है।

Pin It