इशरत एनकाउंटर: गवाह को सिखाया गया था बयान

नई दिल्ली। 12 साल पहले हुए इशरत जहां एनकाउंटर केस के गायब हुए पेपर्स मामले में नया मोड़ सामने आया है। जांच कर रही टीम के हेड ने एक गवाह को फोन पर बताया कि जब उससे पेपर्स के बारे में सवाल किए जाएं तो उसे क्या जवाब देना है। इस मामले के सामने आने के बाद अब एनकाउंटर केस की जांच पर ही सवाल उठ सकते हैं।

15 जून 2004 को हुए इशरत जहां एनकाउंटर के कुछ पेपर्स गायब हो गए थे। गायब हुए पेपर्स की खोज के लिए होम मिनिस्ट्री ने एक टीम बनाई। इस टीम को एडीशन सेक्रेटरी बीके. प्रसाद लीड कर रहे हैं। प्रसाद को अशोक कुमार की गवाही लेनी है। अशोक होम मिनिस्ट्री में डायरेक्टर रह चुके हैं। पिछले दिनों ‘इंडियन एक्सप्रेस’ के एक रिपोर्टर ने किसी दूसरे मामले की जानकारी लेने के लिए प्रसाद को फोन किया। प्रसाद ने कुछ वक्त के लिए रिपोर्टर की कॉल होल्ड पर रखी और इस दौरान वह दूसरे फोन पर इशरत जहां केस के गायब हुए पेपर्स मामले के गवाह अशोक कुमार से बात करने लगे। ये घटना 25 अप्रैल को दोपहर करीब 3.45 बजे की है। इसकी रिकॉर्डिंग भी अखबार के पास मौजूद है। बता दें कि 1 मार्च 2011 से 23 दिसंबर 2011 तक कुमार होम मिनिस्ट्री के इंटरनल सिक्योरिटी डिवीजन में डायरेक्टर थे। यही वो डिवीजन था जो उस दौरान इशरत जहां एनकाउंटर केस को डील कर रहा था।

Pin It