‘आसान नहीं राजधानी में कप्तानी की राह’

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। आईपीएस मंजिल सैनी ने राजधानी में कप्तान की कुर्सी संभाल ली है। उनके कुर्सी संभालते ही कमांड पर तैनात पुलिस कर्मियों से लेकर शहर की पुलिसिंग व्यवस्था तक चुस्त-दुरुस्त नजर आने लगी है। नये कप्तान ने पहले ही दिन अपने विभाग के लोगों को कानून का पाठ पठाया। कमांड पर पत्रकारों से मुखातिब होने के दौरान अपने पीआरओ आलोक पाठक का नाम सुनते ही पूछ बैंठी की आखिर आलोक कौन हैं। जब उन्हें आलोक के बारे में जानकारी दी गई, तब पत्रकार वार्ता शुरू हुई। जिसमें उन्होंने बहुत ही सहजता से अपनी बात सामने रखी और स्वीकार किया कि राजधानी में कप्तान की राह आसान नहीं है। अपनी नई तैनाती को वह अब तक की सबसे बड़ी चुनौती के तौर पर ले रही हैं।

कौन हैं आलोक पाठक?
मीडिया से रूबरू होने के दौरान नई एसएसपी मंजिल सैनी ने पहले पत्रकारों को अपना परिचय दिया। इसके बाद उन्होंने पत्रकारों का परिचय पूछा। इस दौरान पत्रकारों ने कहा कि हमारी संख्या बहुत अधिक है। बेहतर होगा आप अपने पीआरओ आलोक कुमार पाठक से पत्रकारों का परिचय मालूम कर लें। इस पर उन्होंने कहा कि ये आलोक कुमार पाठक कौन हैं? इतना कहते ही कमाण्ड में मौजूद सभी लोग हंसने लगे। इसके बाद आलोक कुमार पाठक कमरे में दाखिल हुए और अपने कप्तान से उनका परिचय हुआ।

प्राथमिकता में होंगे महिलाओं से जुड़े मामले
नई एसएसपी ‘लेडी सिंघम’ मंजिल सैनी ने कहा कि वह एक महिला हैं। उनकी पहली और सबसे बड़ी प्राथमिकता महिलाओं से जुड़े मुद्दे होंगे। वह स्वयं महिलाओं से संबंधित मामलों की मॉनीटरिंग करेंगी। उन्होंने चेन स्नैचिंग रोकने से जुड़ी पुरानी घटनाओं का जिक्र करते हुए बताया कि इटावा में एसएसपी रहने के दौरान चेन स्नैचिंग को रोकने के लिए एक योजना बनाई थी, जिसमें महिला कांस्टेबलों को सोने की चेन पहनाकर सडक़ पर पैदल चलाया। इसके बाद चेन स्नैचिंग करने वाले कई गिरोह पकड़ में आये। यहां भी वह ऐसी ही मुहिम चलाकर महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों को कंट्रोल करने की कोशिश करेंगी।

तीन से पांच साल पुराने मामलों के खुलासे पर होगा जोर
कप्तान ने कहा कि शहर के ऐसे सभी प्रमुख मामले जिनमें अभी तक खुलासा नहीं हुआ है। उन सभी फाइलों को खुलवायेंगीं। ऐसे सभी पुराने मामलों पर नए तरीके से काम करेंगी। उन्होंने कहा कि खास तौर पर तीन से पांच साल पुराने मामलों के खुलासे पर जोर दिया जाएगा। इसके साथ ही प्रत्येक घटना के खुलासे में इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि किसी निर्दोष को इसमें घसीटा न जाए।

हर आईपीएस का राजधानी में कप्तानी का होता है सपना
महिला आईपीएस मंजिल सैनी ने कहा कि हर आईपीएस का सपना होता है कि वह राजधानी में एक बार कप्तानी का चार्ज संभाले। उन्होंने भी लखनऊ में कप्तानी करने का सपना देखा था, जो आज पूरा हो गया है। इसके बावजूद उन्होंने कहा कि राजधानी में कप्तानी की राह आसान नहीं है। इससे निपटने के लिए उन्होंने कार्य योजना बनानी शुरू कर दी है, जिसका असर कुछ ही दिनों में दिखना शुरू हो जाएगा।

मीडिया का दिया निक नेम ‘लेडी सिंघम’ है काफी पंसद
नये कप्तान ने मीडिया की तरफ से दिए गए ‘लेडी सिंघम’ नाम पर खुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि खुद को लेडी सिंघम बुलाया जाना बहुत पसंद है। मीडिया ने यह नाम देकर मेरी जिम्मेदारियों को और अधिक बढ़ा दिया है। मैं उन जिम्मेदारियों और लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरने का प्रयास करूंगी।

व्यक्तिगत परिचय
एसएसपी ने बताया कि वह मूलरूप से दिल्ली की रहने वाली हैं। उनका जन्म 1975 में हुआ था। उनके पिता पुलिस अफसर थे। उन्होंने दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से ग्रेजुएट किया है। पति जसपाल दहल बिजनेसमैन हैं। मेरे दो बच्चे हैं, बेटा 15 साल और बेटी 11 साल की है।

नये कप्तान के सामने चुनौती

  • भूमि संबंधित मामलों और भू माफियाओं पर नियंत्रण
  • राजधानी के विभिन्न इलाकों में मिलते अज्ञात शवों की गुत्थी सुलझाने की चुनौती।
  • हत्या, लूट, डकैती, रेप, छेड़छाड़, चेन स्नैचिंग और चोरी से जुड़े मामले।
  • वर्षों से लंबित पड़े महत्वपूर्ण मामलों का खुलासा।
  • राजनीतिक पहुंच वाले वर्दीधारियों से काम लेने की चुनौती

इन बिन्दुओं पर होगी प्राथमिकता

  • पुलिस की सक्रियता व व्यवहार पर दिया जाएगा जोर।
  • महिलाओं से संबंधित मामलों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।
  • ट्रेडिशनल पुलिस व माडर्न पुलिस दोनों का आपसी तालमेल बनाया जाएगा।
  • त्योहार पर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर खास ध्यान दिया जाएगा।

बदला-बदला दिखा कमाण्ड का नजारा
नये कप्तान के आते ही कमाण्ड का नजारा भी बदला-बदला नजर आया। जहां कमाण्ड के अंदर दो पहिया वाहन टेढे-मेढे ढंग से खड़े रहते थे। वहां आज कई पुलिस कर्मी वाहन को सही से लगाने के लिए पत्रकारों और अन्य आगन्तुकों से आग्रह करते नजर आए। इतना ही नहीं, आमतौर पर कमांड पर बिना वर्दी में दिखने वाले इंस्पेक्टर आलोक कुमार पाठक व सिपाही अजय और सचिन भी वर्दी में नजर आए।

Pin It